nakab

nakab

गणतंत्र दिवस के मौके पर जम्मू-कश्मीर में सादिया अनवर शेख नामक लड़की को हिरासत में लिया था. जिसके बाद मीडिया ने सादिया को आतंकी करार देते हुए सुसाइड बॉम्बर बना डाला था. लेकिन पुलिस जांच में ऐसा कुछ भी सामने नहीं आया.

दरअसल, पिछले साल नवंबर में 18 बरस की हुई सादिया अनवर शेख पुणे से यहां आई थी और बिजबेहरा में एक पेईंग गेस्ट के तौर पर रह रही थी. लेकिन सोशल मीडिया पर पोस्ट करने को लेकर उसे कट्टरपंथी मान लिया गया. हालांकि पुलिस ने लड़की के परिवार वालों से संपर्क किया है और उसे उनके हवाले कर दिया जाएगा क्योंकि उसके खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं है.

केन्द्रीय सुरक्षा एजेंसियों ने कश्मीर पुलिस को सूचना दी थी कि पुणे की एक लड़की, जिसे कई मौकों पर पुणे पुलिस के आतंकवाद निरोधी दस्ते ने हिरासत में लिया है, अपना ठिकाना बदलकर घाटी में आ गई है और उसकी निगरानी किए जाने की जरूरत है.

शुक्रवार सुबह पुलिस महानिरीक्षक (कश्मीर क्षेत्र) मुनीर खान ने इस बारे में अधिक जानकारी देने से इनकार करते हुए कहा था कि हम उससे (सादिया से) पूछताछ करेंगे और अपनी सहयोगी एजेंसियों से बात करेंगे.

वहीँ लड़की की माँ ने कहा, जब तक वह अपनी बेटी से बात नहीं कर लेंगी तब तक सुरक्षा एजेंसियों के दावों को नहीं मानेंगी. उन्होंने कहा कि उनकी बेटी निर्दोष है और किसी ने उसके नाम का गलत इस्तेमाल किया है. उन्होंने दावा किया कि दो दिन पहले उनकी बेटी ने फोन पर उनसे बात की थी और कहा था कि वह ठीक है.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें