रविवार को पैगाम-ए-इंसानियत की ओर से आइएमए हॉल में आयोजित तालीमी कांफ्रेंस में एएमयू के पूर्व उप-कुलपति व ब्रिगेडियर सय्यद अहमद अली ने मुसलमानों के बीच तालिम पर जोर देते हुए कहा कि दुनिया जानती है कि ताजमहल आपके पूर्वजों ने बनवाया है। उसे भूल जाइए और अब विश्वविद्यालय तामीर कीजिए।

उन्होने कहा, हमारी कौम को नाकामी के डर से बाहर निकलने की जरूरत है। देश की शीर्ष नौकरियों में किसी तरह का भेदभाव नहीं है। इस बार आया आइएएस का रिजल्ट इसका गवाह है। इसमें 61 मुसलमानों का चयन हुआ है। आज हमें जरूरत है क्वालिटी एजुकेशन है। इसके जरिये हम देश के पॉलिसी मेकर में जगह बना सकते हैं।

पूर्व उप-कुलपति ने कहा कि हमें अपनी बहन, बेटी और बीवी को उच्च शिक्षा दिलाने की जरूरत है। बेटियां अपने वालिद से कहें कि बेशक जिस भी उम्र में उनकी शादी कर दीजिए, पर पढ़ाई से मत रोकिए। क्योंकि जब महिलाएं कमाएंगी तभी मुसलमान गरीबी से बाहर निकलेंगे। जब तक घर का एक सदस्य कमाएगा पांच खाएंगे, तब तक गरीबी दूर नहीं होगी।

india muslim 690 020918052654

कनाडा से आए प्रोफेसर इदरीस सिद्दीकी ने भी क्वालिटी एजुकेशन पर जोर दिया। उन्होने कहा, मुसलमानों ने आखिरत (मृत्यु के बाद का हिसाब) संवारने के लिए दुनिया छोड़ दी। जबकि कुरान में करीब 146 बार आखिरत और दुनिया का जिक्र है। यह कुरान का पैगाम है कि आखिरत और दुनिया, दोनों को संवारें। कुछ लोग अंग्रेजी-विज्ञान पढ़ने से मना करते हैं। उनसे पूछिए कि वे अपने बच्चों को क्यों विदेशों में पढ़ाते हैं।

उन्होने कहा, आज फिरकों में बंटी कौम को फिर एक रहनुमा की जरूरत है, जिसकी आवाज सब सुनें। किसी का राजनीतिक इस्तेमाल न हों, अपनी सोच का दायरा बढ़ाएं।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन