Friday, June 25, 2021

 

 

 

मंदिर के बाहर ‘मुस्लिम बैन’ पोस्टर लगाना पड़ा महंगा, पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा

- Advertisement -
- Advertisement -

यूपी के डासना में मंदिर में पानी पीने पर की गई मुस्लिम बच्चें की पिटाई के बाद देहरादून में मंदिर के बाहर लगाए गए गैर हिन्दुओं के प्रवेश के वर्जित वाले पोस्टर के मामले में पुलिस ने धार्मिक भावनाएं भड़काने के आरोप में हिंदु युवा वाहिनी के प्रदेश महासचिव के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

जीतू रंधावा हिंदू युवा वाहिनी के प्रदेश महासचिव हैं। देहरादून की एसपी (सिटी) सरिता डोभाल ने बताया कि घण्टाघर के आस पास एक मंदिर में एक बैनर टंगे होने की सूचना मिली थी। बैनर को हटवा दिया गया है और बैनर में दर्ज नम्बर को वेरिफाई करवाया जा रहा है। इसी नम्बर के आधार पर धार्मिंक भवनाओं को भड़काने के आधार पर आईपीसी की धारा 153-A के तहत मुकदमा दर्ज कर दिया गया है। गिरफ्तारी के प्रयास जारी हैं।

हिंदु युवा वाहिनी के प्रदेश अध्यक्ष गोविन्द वाधवा का कहना है कि अब हिंदु समाज को अपनी ताकत दिखाते हुए अपने धर्म और समाज की रक्षा के लिए स्वयं आगे आना होगा। सब कुछ सरकार के भरोसे नही छोड़ा जा सकता।  उन्होंने कहा की जिस भी मंदिर मे कोई विधर्मी अंदर घुसता है तो उसे मौके पर पकड़कर पुलिस के हवाले किया जाएगा।

कांग्रेस ने इसे बीजेपी और संघ परिवार द्वारा धार्मिक ध्रुवीकरण करने की साजिश करार दिया है। कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना का कहना है कि उत्तराखंड में वैसे भी सभी धर्मों के लोग सभी धर्मों के धार्मिक स्थलों का सम्मान करते हैं। सामान्य तौर पर भी न कोई मुसलमान मंदिर में जाता है और न कोई हिंदू मस्जिद में पहुंचता है। फिर इस तरह के बैनर लगाना अनुचित है।

सूर्यकांत धस्माना का कहना है कि बीजेपी के पास कोई मुद्दा नहीं बचा है। इसलिए अब धार्मिक ध्रुवीकरण कर समाज में माहौल खराब करने का प्रयास किया जा रहा है। वहीं बीजेपी के प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने कांग्रेस के आरोपों को निराधार बताते हुए कहा कि हिंदू युवा वाहिनी बीजेपी का कोई संगठन नहीं है। जिस संगठन ने बैनर चिपकाए उसी से पूछा जाना चाहिए कि उसने ऐसा क्यों किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles