Monday, September 27, 2021

 

 

 

मुस्लिम और ईसाई गरीबों को भी मिलेगा पीएम मोदी का सवर्ण आरक्षण

- Advertisement -
- Advertisement -

लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र की मोदी सरकार ने ऊंची जाति के लोगों को रिझाने के लिए सरकार ने आरक्षण देने की घोषणा की है। उन्होने आर्थिक रूप से पिछड़े ऊंची जाति के लोगों को 10 फीसदी आरक्षण को मंजूरी दे दी है।

इस आरक्षण का फायदा ऐसे लोगों को मिलेगा जिसकी कमाई सलाना 8 लाख से कम है। अगर आरक्षण लागू होता है तो इसमें हिंदू सवर्ण समाज, ब्राह्मण, क्षत्रिय, बनिया के अलावा ईसाई और मुस्लिम धर्म के सवर्ण भी आएंगे।

सामाजिक न्याय राज्य मंत्री विजय सांपला ने सोमवार को कहा कि लंबे अरसे से आर्थिक आधार पर आरक्षण की मांग की जा रही थी, जिसके बाद सरकार ने यह फैसला किया है।

modi bjp 1524108603 618x347

संपाला ने कहा कि सामान्य वर्ग के उक्त लोगों को इसका लाभ मिलेगा, जिसके परिवार की वार्षिक आय 8 लाख रुपये से कम और जिनके पास खेती की जमीन 5 एकड़ से कम होगी। इसमें हर धर्म के सामान्य वर्ग के लोग शामिल है। ऐसे लोगों को नौकरी और शिक्षा दोनों क्षेत्रों में इसका लाभ मिलेगा।

उन्होंने कहा कि सरकार अरसे से आर्थिक आधार पर आरक्षण के लिए काम कर रही थी। निश्चित रूप से इन वर्गों को आरक्षण का देने के लिए संविधान संशोधन का रास्ता अपनाया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि मुस्लिमों में शेख, सैयद, पठान और मलिक को सवर्ण मुस्लिमों की कैटेगरी में रखा गया है। अगर आरक्षण लागू होता है तो बाकी सवर्णों की तरह शेख, सैयद, पठान और मलिक को भी लाभ मिल सकता है।

ईसाइयों की बात करें तो उनकी लम्बे समय से मांग रही है कि उन्हें पहले से लागू 49.5% के अंदर ही आरक्षण दिया जाय। अब क्योंकि ईसाइयों में जाति की कोई व्यवस्था नहीं है और उन्हें आरक्षण नहीं मिलता है तो वे भी 10% के अंदर आ जाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles