Wednesday, October 20, 2021

 

 

 

फर्जी टीआरपी मामले में रिपब्लिक TV के CFO को मुंबई पुलिस ने किया तलब

- Advertisement -
- Advertisement -

फर्जी टीआरपी मामले में मुंबई पुलिस ने रिपब्लिक टीवी के चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर शिव सुंदरम, सैम बलसारा फाउंडर और चेयमेन और मैनेजिंग डायरेक्टर ऑफ मेडिसन वर्ड एंड ऑपरेशन हेड लोव लिंटास शिशिर सिन्हा को तलब किया है।

ज्वाइंट कमिश्नर ऑफ पुलिस (क्राइम), मिलिंद भरांबे ने कहा- “उन सभी को सीआरपीसी की धारा 160 के अंतर्गत बयान दर्ज करने के लिए बुलाया गया है।” मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने गुरुवार को यह ऐलान किया था कि टीआरपी मेनुपुलेटिंग के जांचकर्ता रिपब्लिक टीवी के अधिकारियों के साथ पूछताछ करेंगे।

इस मामले में रिपब्लिक TV के अकाउंट्स का फॉरेंसिक ऑडिट भी किया जाएगा। साथ ही रिपब्लिक TV पर एविडेंस से छेड़छाड़ का मामला भी दर्ज किया जा सकता है। वहीं BARC को मुंबई पुलिस ने रिपब्लिक TV और बाकी दोनों चैनलों के TRP ट्रेंड्स भी मुहैया कराने के लिए कहा है।

इस मामले में गिरफ्तार 4 आरोपियों विशाल भंडारी, बोमपेली राव मिस्त्री, शिरीष सतीश पट्टनशेट्टी और नारायण शर्मा को शुक्रवार को कोर्ट में रिमांड के लिए पेश किया गया। इन चारों आरोपियों को कोर्ट ने 13 अक्टूबर तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है।

गौरतलब है कि मुंबई पुलिस ने गुरुवार को फर्जी तरीके से टीवी चैनलों की टीआरपी बढ़ाने वाले रैकेट के भंडाफोड़ का दावा किया। शहर के पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने कहा कि अर्नब गोस्वामी के स्वामित्व वाले रिपब्लिक टीवी समेत तीन चैनल पैसे देकर टीआरपी हासिल कर रहे थे। पुलिस ने कहा कि ये चैनल रेटिंग मीटर वाले घरों में 400 से 500 रुपये देकर टीआरपी हासिल कर रहे थे।

पुलिस के मुताबिक फर्जी इस रैकेट की सूचना मिलने पर सबसे पहले विशाल भंडारी नामका शख्स पकड़ में आया। विशाल टीआरपी एजेंसी BARC के लिये काम करने वाली एजेंसी हंसा का कर्मचारी रह चुका है और उसे कहां कहां बैरोमीटर लगे हैं ये पता था। दूसरे आरोपी संजू राव के साथ मिलकर उसने फर्जी रेटिंग का खेल शुरू किया। जिस घर मे बैरोमीटर लगा था वहां जाकर उन्हें रिपब्लिक टीवी और बाकी के दो चैनल देखने के लिए महीने का 400 रुपया देने का लालच दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles