नोयडा | हिंदुस्तान की राजनीती के चाणक्य कहे जाने वाले अमर सिंह आजकल मुलायम सिंह यादव से खासे नाराज चल रहे है. उन्होंने मुलायम सिंह पर बेहद ही संगीन आरोप लगाते हुए कहा की उनके दबाव की वजह से मैं लन्दन चला गया. अमर सिंह ने यह भी बताया की मुलायम सिंह नही चाहते थे की मैं समाजवादी पार्टी के रजत जयंती समारोह में शामिल होऊं.

न्यूज़18 को दिए गए इंटरव्यू में अमर सिंह ने मुलायम सिंह यादव से लेकर लालू प्रसाद यादव के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली. इस इंटरव्यू के दौरान वो काफी गुस्से में दिखे. समाजवादी परिवार में हुए झगडे में उनकी भूमिका पर अमर सिंह ने कहा की यह पूरा झगडा केवल अखिलेश की छवि को चमकाने के लिए किया गया. वो चाहते थे की अखिलेश को पुरे देश में राष्ट्रिय अध्यक्ष के तौर पर पहचान मिले और प्रदेश के बाकी मुद्दे इस हंगामे की भेंट चढ़ जाए.

अमर सिंह ने इस झगडे को प्रयोजित बताते हुए कहा की उस पुरे परिवार में केवल मैं बाहरी था बाकी सब घरवाले थे. मतदान के दौरान यह दिखा भी. पूरा परिवार एक साथ मतदान करने पहुंचा. साधना गुप्ता ( मुलायम सिंह की पत्नी) प्रतीक और अखिलेश को अपनी दोनो आँखे बता रही थी और मुलायम सिंह , अखिलेश को मुख्यमंत्री और शिवपाल को मंत्री बनाने की बात कह रहे थे. उस झगडे में केवल मैं बाहरी था और मैं ही बाहर हो गया.

आजम खान पर प्रतिक्रिया देते हुए अमर सिंह ने कहा की उनका नाम आने पर कानो पर हाथ रख लेता हूँ. वो बच्चो के बलात्कार को कहते है की लड़के थे, इसलिए बहक गए. सुप्रीम कोर्ट का हंटर तब चला तो बोले की मुझे माफ़ कर दीजिये, क्योकि जबान में हड्डी नही होती. अखिलेश को शत्रु मानने से इनकार करते हुए अमर सिंह ने कहा की मेरी दो बेटिया है, मैं उनकी कसम खाकर कहता हूँ की मैं अखिलेश को अपना शत्रु नही मानता.

अमर सिंह ने अखिलेश से मतभेद पर कहा की मैंने मुलायम सिंह से लड़कर अखिलेश की शादी कराई. उसको पढ़ाई के लिए ऑस्ट्रेलिया लेकर गया. लेकिन जैसे महाभारत में कौरव की तरफ भी अच्छे और बुरे लोग थे ऐसे ही अखिलेश के साथ भी रामगोपाल यादव और नरेश अग्रवाल है. फिर भी मैं अखिलेश को इन चुनावो में यसस्वी होने का आशीर्वाद देना चाहूँगा.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें