naq

naq

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी सोमवार को शिवरात्रि के मौके पर रामपुर के रठौंडा मंदिर पहुंच कर शिवलिंग की पूजा की. साथ ही उन्होंने रठौंडा मंदिर में प्रत्येक वर्ष आयोजित होने वाले 15 दिवसीय रठौंडा मेले का फीता काटकर विधिवत उद्घाटन किया.

इस मामले के सामने आने का बाद देवबंदी उलेमाओं ने नकवी की इस पूजा को सियासी पाखंड करार दिया. फतवा ऑनलाइन के चेयरमैन मुफ्ती अरशद फारुकी ने कहा कि दूसरे मजहब का सम्मान जताने के लिए अपने मजहब के अकीदे के खिलाफ जाकर पूजा पाठ करना गलत है. उन्होंने कहा कि नकवी जैसे लोग इस तरह का ढोंग कर सियासी खेल खेलते हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

तो वहीँ दारुल उलूम अशरफिया के मोहतमिम सालिम अशरफ कासमी ने पैगंबर मोहम्मद के हवाले से कहा कि अगर कोई दूसरी कौम के मजहब की परम्पराओं को निभाएगा, उसका शुमार उसी कौम में किया जाएगा. उन्होंने नकवी को इस क्रिया के लिए तौबा करने की भी नसीहत दी.

बता दें, जिले में रियासत कालीन नवाबों ने रठौंडा मंदिर का निर्माण करवाया था. रठौंडा गांव में स्थित खेत में शिव की मूर्ति निकलने पर रियासत काल के नवाब हामिद अली खां ने करीब 200 साल पहले इसका निर्माण खुद करवाया था. देश के कोने-कोने से श्रद्धालु यहां पूजा-अर्चना करने पहुंचते हैं.

Loading...