‘काजी-ए-हिंदुस्तान’ के खिताब से मुफ़्ती असजद रज़ा को नवाजा गया

aala

बरेली। जानशीन ताजुश्शरीया एवं शहर काजी मुफ्ती असजद रजा खां कादरी (असजद मियां) को काजी-ए-हिंदुस्तान के खिताब से नवाजा गया है।

ताजुश्शरीय हजरत अख्तर रजा खां (अजहरी मियां) ने सारी दुनियां में सुन्नियत का परचम बुलंद किया। उनके ही नक्शे कदम पर चलते हुए मुफ्ती असजद मियां ने काजी-ए-हिंदुस्तान का खिताब हासिल किया। यह खिताब जमीयतुर्रजा में शरई कौंसिल की ओर से हुए शरई सेमीनार के दौरान भारत सहित दूसरे मुल्कों के उलमा ने बैठक कर असजद मियां को काजी-ए-हिंदुस्तान चुना है।

दरगाह आला हज़रत से जुड़े संगठन जमात रज़ा-ए-मुस्तफ़ा के उपाध्यक्ष सलमान हसन ख़ान ने कहा, “67 विद्वानों द्वारा पारित एक सर्वसम्मत फ़ैसले को मुफ़्ती अख्तर रज़ा के बेटे और उत्तराधिकारी मुफ़्ती असजद रज़ा ने सही ठहराया है। भारत के क़दी अल-क़ुदत (मुख्य इस्लामी न्याय) यानि सुन्नी बरेलवी मौलवियों को अब शरीयत मामलों में मुस्तैद असजद रजा से परामर्श करना होगा। ”

उन्होंने कहा कि उपस्थित सभी विद्वानों ने नियुक्ति की पुष्टि करते हुए एक लिखित घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर किए। इन हस्ताक्षरकर्ताओं के नाम फिकही सेमिनार की वार्षिक रिपोर्ट में प्रकाशित किए जाएंगे।

उधर, तंजीम उलमा इस्लाम के महासचिव मौलाना शहाबुद्दीन रजवी ने असजद मियां को काजी-ए-हिंदुस्तान चुने जाने का खैरमखदम करते हुए मुबारकबाद पेश की है। साथ ही मुफ्ती अशफाक हुसैन कादरी, कारी सगीर अहमद रजवी, मौलाना अब्दुल वाहिद, मौलाना अब्दुल जलील निजामी, मुफ्ती रईस उद्दीन नूरी, मुफ्ती इकबाल मिसवाही आदि ने भी मुबारकबाद पेश की है।

इसके अलावा मुस्लिम स्टूडेंट ऑर्गेनाइजेशन ऑफ इंडिया (MSO) के राष्ट्रीय अध्यक्ष शुजाअत अली कादरी सहित दीगर लोगों ने भी मुबारकबाद पेश की। मुबारकबाद पेश करने वालों में सय्यद मुहम्मद कादरी, मुफ़्ती खालिद अय्युब मिसबाही, शाहनवाज़ वारसी आदि शामिल रहे।

विज्ञापन