alimudd

झारखंड के रामगढ़ में कथित गौरक्षा के नाम पर पीट-पीट कर की गई अलीमुद्दीन अंसारी की हत्या के मामले मे सजायाफ्ता 11 में से 8 दोषियों को झारखंड हाईकोर्ट ने जमानत दे दी है। बुधवार को इन सभी को जेल से रिहा कर दिया गया।

इस मौके पर मोदी केबिनेट मे नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा आरोपियों को हजारीबाग की जय प्रकाश नारायण सेंट्रल जेल लेने पहुंचे। बता दें कि जयंत हजारीबाग से सांसद हैं।

इस दौरान जयंत ने हत्यारों को न केवल फूलमालाएं और मिठाई दीं, बल्कि ऊपरी अदालत में उनका केस लड़ने का भी आश्वासन दिया। इससे पहले भाजपा के पूर्व विधायक शंकर लाल चौधरी भी ऐसा कर चुके है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

jayan

बताया जा रहा है कि इन सभी लोगों क जमानत मिल जाने के बाद शहर में विजय जुलूस निकाला जाएगा। ध्यान रहे 29 मार्च 2017 को गाड़ी में भरकर गोमांस ले जाने की अफवाह फैलाकर अलीमुद्दीन अंसारी की पीट-पीटकर हत्या की गई थी।

इस मामले मे स्थानीय भाजपा नेता नित्यानंद महतो, विक्की साव, सिकंदर राम, उत्तम राम, विक्रम प्रसाद, राजू कुमार, रोहित ठाकुर, और कपिल ठाकुर को कोर्ट ने धारा 147, 148, 427/149, 135/149, 302/149 के तहत दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई थी।

Loading...