प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को आल इंडिया इमाम आर्गेनाइजेशन के मुख्य इमाम उमैर अहमद इलियासी के नेतृत्व में मुस्लिम उलेमाओं और बुद्धिजीवियों के एक शिष्टमंडल के साथ मुलाक़ात की.

मुलाकात के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कट्टरपंथ का प्रतिरोध करने के लिए भारतीय युवाओं की प्रशंसा की और जोर दिया कि देश की संस्कृति, परंपरा और सामाजिक तानाबाना आतंकवादियों या उनके प्रायोजकों के घृणित मंसूबों को कामयाब नहीं होने देगा.

proxyप्रधानमंत्री कार्यालय के बयान के अनुसार, मोदी ने शिष्टमंडल से कहा कि हमारे धरोहर को आगे ले जाना हम सभी की सामूहिक जिम्मेदारी है. बयान के अनुसार, शिष्टमंडल ने अल्पसंख्यकों समेत समाज के सभी वर्गो के लोगों के सामाजिक, आर्थिक और शैक्षणिक सशक्तिकरण, समावेशी विकास की दिशा में केंद्र सरकार की ओर से उठाये गए कदमों के लिए प्रधानमंत्री को बधाई दी.’’

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश के युवाओं ने कट्टरपंथ का सफलतापूर्वक प्रतिरोध किया है जिससे आज दुनिया के कई हिस्से प्रभावित हैं. मोदी ने शिष्टमंडल से कहा, ‘‘इसका श्रेय हमारे लोगों के लम्बे और साझे धरोहर को जाता है और हमारी सामूहिक जिम्मेदारी इस धरोहर को आगे बढाने की है.

प्रधानमंत्री कार्यालय से जारी बयान के अनुसार प्रतिनिधिमंडल ने भ्रष्टाचार और कालेधन के खिलाफ सरकार के अभियान को गरीबों और अल्पसंख्यकों के हित में बताया. प्रतिनिधिमंडल में एएमयू के कुलपति जमीरुद्दीन शाह, जामिया मिलिया के तलत अहमद, दरगाह अजमेर शरीफ के दीवान जैनुल आबदीन समेत कुल 38 सदस्य शामिल थे.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें