विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर पश्चिम एशिया के देशों के दौरे पर हैं. इस दोरान मंगलवार को वह कर्बला भी जाएंगे. उनकी यात्रा का पहला पड़ाव सीरिया हैं. उसके बाद वह लेबनान और इराक जाएंगे. जिसमे कर्बला भी उनकी यात्रा का एक पड़ाव होगा.

शनिवार को दमिश्क पहुंचे अकबर ने सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद से मुलाकात की और द्विपक्षीय संबधों पर बातचीत की. बातचीत में सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल-असद ने कहा है कि उभरती शक्ति के नाते भारत को आतंकवाद से निपटने में भूमिका निभानी है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बातचीत के दौरान दोनों नेताओं ने माना कि आतंकवाद वैश्विक समस्या है. असद ने सीरिया में युद्ध को लेकर भारत के निष्पक्ष रुख का स्वागत किया. अकबर ने कहा कि सीरिया में विनाश के युग की जगह पुनर्निर्माण का युग होना चाहिए.

अकबर के कर्बला दौरा के बारें में अल्‍पसंख्‍यक मामलों के मंत्री मुख्‍तार अब्‍बास नकवी ने कहा कि बुरी ताकतों से भारत की लड़ाई के प्रति प्रतिबद्धता को साबित करेगा. उन्‍होंने कहा, ”कर्बला मुस्लिमों के लिए पाक है क्‍योंकि यही वो जगह हैं जहां झूठ की हार हुई थी. यह जगह शांति और त्‍याग का प्रतीक है. भारत भी बुरी ताकतों से लड़कर उनका खात्‍मा करने और अच्‍छी ताकतों से हाथ मिलाने में लगा है.

Loading...