केंद्र को मोदी  सरकार ने डायनैमिक फ्यूल प्राइसिंग लागू कर जनता को आश्वासन दिया था कि आम जनता को इसका सीधा लाभ मिलेगा. लेकिन ये अब जनता के लिए ही मह्नागा साबित हो रहा है.

दरअसल जुलाई महीने में पेट्रोल की कीमत में 6 रुपए और डीजल के दाम में 3.67 रुपये की बढ़ोतरी ने आम जनता की कमर तोड़ दी है. ये बढ़ोतरी हर रोज महज 10-15 पैसे प्रति लीटर प्रति दिन के हिसाब से की गई. जिसकी वजह से कोई हल्ला-पुकार नहीं हो पाया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

सरकारी तेल कंपनियों के आंकड़ों के मुताबिक तीन सालों में अब तक की ये सबसे बड़ी बढ़ोतरी है. फिलहाल दिल्ली में पेट्रोल 69.04 रुपए प्रति लीटर की दर से बिक रहा है जो तीन साल में सबसे ज्यादा है. इससे पहले अगस्त 2014 में पेट्रोल 70.33 रुपये प्रति लीटर था.

वहीँ दिल्ली में डीजल 57.03 रुपए प्रति लीटर की दर से बिक रहा है. यह अगस्त, 2014 के दूसरे पखवाड़े के बाद का सबसे ऊंचा स्तर है. जब इसकी कीमत 70.33 रुपये थी.

गौरतलब रहें कि पेट्रोलियम कंपनियों ने जून में महीने की पहली और 16 तारीख को कीमतों में संशोधन की 15 साल पुरानी परंपरा को छोड़ दिया था. 16 जून से कीमतों में प्रतिदिन मामूली बदलाव किया जाता है.

Loading...