Sunday, June 26, 2022

चुनावों के नजदीक आते ही मोदी सरकार ने किया अल्पसंख्यक छात्रवृति में इजाफा

- Advertisement -

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय की ओर से स्कूली लड़कियों की दी जाने वाली स्कॉलरशिप के लिए निर्धारित बजट को चुनाव नजदीक आते से ही एक बार फिर से बढ़ाने की तैयारी की जा रही है। इस बार करीब 15 फीसदी तक की बढ़ोतरी की जा सकती है।

मंत्रालय की अधीनस्थ संस्था ‘मौलाना आजाद एजुकेशन फाउंडेशन’ (एमएईएफ) ने ‘बेगम हजरत महल राष्ट्रीय छात्रवृत्ति योजना’ के कुल बजट में बढ़ोतरी करने का फैसला किया है। एमएईएफ के सचिव रिजवानुर रहमान ने बताया, ‘बेगम हजरत महल योजना के तहत इस बार हमने फैसला किया है कि बजट को कम से कम 90 करोड़ रुपये करेंगे। इस बारे में हमने मंत्रालय को भी अवगत कराया है।’

उन्होंने कहा, ‘साल 2017-18 में तकरीबन 1,15,000 लड़कियों को छात्रवृत्ति दी गयी है। हमारी कोशिश होगी 2018-19 में लाभार्थियों की संख्या इससे कहीं ज्यादा हो।’ रहमान ने कहा, ‘अभी भी इस योजना के बारे में जागरूकता बढ़ाने की जरूरत है। हम इस बार कोशिश कर रहे हैं कि जागरूकता फैलाने के अलग अलग माध्यमों से आक्रामक प्रचार अभियान चलाया जाए।

रहमान ने कहा कि देश भर में एमएईएफ के करीब 300 ‘गरीब नवाज कौशल विकास केंद्र’ संचालित हो रहे हैं। इन केंद्रों के माध्यम से भी बेगम हजरत महल छात्रवृत्ति योजना के बारे जागरूकता फैलाई जा रही है।

बता दें कि इस योजना के तहत आवेदन करने वाली नौवीं और 10वीं कक्षा की लड़कियों को सालाना पांच-पांच हजार रुपये और 11वीं और 12वीं कक्षा की छात्राओं को छह-छह हजार रुपये दिये जाते हैं।

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles