मोदी सरकार ने माना अनुच्छेद-370 पर फैसले के विरोध में हुई सौरा में पत्थरबाज़ी

7:01 pm Published by:-Hindi News

श्रीनगर के सौरा इलाक़े में पिछले शुक्रवार को नमाज़ के बाद पत्थरबाज़ी की घटना को मोदी सरकार ने स्वीकार लिया है। दरअसल इससे पहले इस घटना का एक VIDEO सामने आया था। जिसे केंद्र ने नकार दिया था।

इस मामले में अब गृह मंत्रालय की प्रवक्ता की ओर से ट्वीट आया है। जिसमे कहा गया, मीडिया में श्रीनगर के सौरा इलाक़े में घटना की ख़बरें आई हैं। 9 अगस्त को कुछ लोग स्थानीय मस्ज़िद से नमाज़ के बाद लौट रहे थे। उनके साथ कुछ उपद्रवी भी शामिल थे। अशांति फैलाने के लिए इन लोगों ने बिना किसी उकसावे के सुरक्षाकर्मियों पर पत्थरबाज़ी की। लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने संयम दिखाया और क़ानून व्यवस्था बनाए रखने की कोशिश की। हम ये दोहराते हैं कि अनुच्छेद 370 को ख़त्म करने के बाद से अभी तक जम्मू कश्मीर में एक भी गोली नहीं चली है।

शुक्रवार को श्रीनगर के सौरा में अनुच्छेद 370 के तहत मिले विशेष दर्जे को ख़त्म करने के ख़िलाफ़ कश्मीरियों ने किया प्रदर्शन, भीड़ को तितर-बितर करने के लिए सुरक्षाबलों ने किया बल प्रयोग, भारत सरकार कर रही है किसी भी बड़े प्रदर्शन से इनकार, देखिए BBC की EXCLUSIVE फ़ुटेज.

BBC News हिन्दी ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಶನಿವಾರ, ಆಗಸ್ಟ್ 10, 2019

बता दें कि ये Video बीबीसी ने जारी किया था। Video को लेकर दावा किया गया था कि शुक्रवार को श्रीनगर के सौरा इलाके में एक बड़ा विरोध प्रदर्शन हुआ था। प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए सुरक्षाबलों ने आंसू गैस के गोले दागे और पैलेट गन का भी इस्तेमाल किया। हालांकि उस वक्त सरकार ने कहा था कि ऐसा कोई बड़ा प्रदर्शन नहीं हुआ।

गृह मंत्रालय की प्रवक्ता ने एक ट्वीट करके कहा था, पहले रॉयटर्स और फिर डॉन में एक न्यूज़ रिपोर्ट प्रकाशित हुई है, जिसमें बताया गया है कि श्रीनगर में एक विरोध प्रदर्शन हुआ जिसमें दस हज़ार लोगों ने हिस्सा लिया। यह पूरी तरह से मनगढ़त और गलत समाचार हैं। श्रीनगर/बारामूला में कुछ छोटे मोटे विरोध प्रदर्शन हुए हैं लेकिन उनमें 20 से ज़्यादा लोग शामिल नहीं हुए थे।

Loading...