modi zakia 580x395

modi zakia 580x395

अहमदाबाद | 2002 में हुए गुजरात दंगा मामले में प्रधानमंत्री मोदी को बड़ी राहत मिली है. गुजरात हाई कोर्ट ने मामले से जुडी एक याचिका को ख़ारिज करते हुए मोदी को क्लीन चिट दे दी. पूर्व कांग्रेस नेता दिवंगत एहसान जाफरी की पत्नी जाकिया जाफरी ने हाई कोर्ट में याचिका डाल मांग की थी की मोदी को 2002 में हुए दंगो में अपराधिक साजिश रचने का आरोपी बनाया जाए.

इस मामले की सुनवाई 3 जुलाई को पूरी कर ली गयी थी. गुरुवार को अपना फैसला सुनाते हुए हाई कोर्ट ने निचली अदालत के फैसले को बरकारा रखा. दरअसल जाकिया और तीस्ता सीतलवाड गैर सरकारी संगठन ‘सिटिजन फॉर जस्टिस एंड पीस’ ने हाई कोर्ट में याचिका डाल निचली अदालत के फैसले को चुनौती दी थी. याचिका में मांग की गयी थी की गुजरात दंगो में मोदी और 59 अन्य को अपराधिक साजिश रचने का आरोपी बनाया जाए.

बताते चले की 2002 में गुलबर्गा सोसाइटी में हुए दंगे में काफी लोग मौत के घाट उतार दिए गए थे. इन दंगो में कांग्रेस नेता एहसान जाफरी की भी मौत हो गयी थी. बाद में दंगो की जांच के लिए एक एसआईटी का गठन किया गया. एसआईटी की जांच रिपोर्ट के आधार पर निचली अदलत ने मोदी समेत 56 लोगो को क्लीन चिट दे दी. इस फैसले के खिलाफ जाकिया और तीस्ता ने गुजरात हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की.

याचिका में जाकिया की और से कहा गया की 2002 में हुए दंगे एक बड़ी अपराधिक साजिश थी. जिसमे तत्कालीन मुख्यमंत्री भी शामिल थे. लेकिन कोर्ट ने सभी दलीलों को ठुकराते हुए मोदी और अन्य को क्लीन चिट दे दी. मालूम हो की इन दंगो में करीब 1 हजार लोग मारे गए थे. इस मामले को करीब 15 साल हो चुके है लेकिन विपक्ष आज भी मोदी को दंगो के लिए जिम्मेदार ठहराते है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?