नई दिल्ली । गुजरात चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री मोदी द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के ऊपर दिया गया बयान उनके लिए गले की हड्डी बनता जा रहा है। संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान कांग्रेस सांसद लगातार मोदी से माफ़ी की माँग कर रहे है। फ़िलहाल इसकी उम्मीद बेहद कम है की गतिरोध कम करने के लिए मोदी माफ़ी माँग सकते है। हालाँकि वित्त मंत्री अरुण जेटली इस मुद्दे के समाधान में लग गए है।

बुधवार को भी इस मामले में गतिरोध जारी रहा। जैसे ही राज्यसभा और लोकसभा की कार्यवाही शुरू हुई, कांग्रेस के सांसदो ने मोदी की माफ़ी को लेकर हंगामा शुरू कर दिया। हालाँकि राज्यसभा में उपराष्ट्रपति वैंकया नायडू ने यह कहकर गतिरोध ख़त्म करने की कोशिश की, की चूँकि मोदी ने राज्यसभा में कोई बयान नही दिया इसलिए वो इस पर माफ़ी नही माँगेंगे। लेकिन उपराष्ट्रपति के इस बयान पर हंगामा और बढ़ गया।

कांग्रेसी सांसद नारेबाज़ी करते हुए वेल में आ गए। कुछ ऐसा ही नज़रा लोकसभा में देखने को मिला। हंगामा बढ़ता देख लोकसभा और राज्यसभा, दोनो सदनो की कार्यवाही 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गयी। उधर मामले को सुलझाने के लिए अरुण जेटली आज कांग्रेस के कई बड़े नेताओ के साथ बैठक करने वाले है। इसमें लोकसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आज़ाद और आनंद शर्मा शामिल है।

वही मनमोहन सिंह भी मोदी के बयान पर काफ़ी आहत दिखाई दे रहे है। इसलिए उन्होंने मंगलवार को उपराष्ट्रपति से मुलाक़ात कर अपनी शिकायत दर्ज कराई। इसके बाद उन्होंने विपक्ष के नेताओ को बताया कि भाजपा की तरफ़ से भी मणिशंकर के बयान को लेकर शिकायत दर्ज करायी गयी है। फ़िलहाल इस मामले में गतिरोध थमने के आसार कम है। हालाँकि प्रधानमंत्री मोदी आज लोकसभा में उपस्थित रहेंगे। इसलिए लोकसभा में और हंगामा होने के आसार है।

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?