नई दिल्ली । गुजरात में उत्तर भारतीय पर हुए हमले के मामले में प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी चुप्पी तोड़ी है। मोदी ने इस मामले में कांग्रेस को ज़िम्मेदार ठहराते हुए कहा की आगामी विधानसभा चुनावों को देखते हुए ऐसी घटनाओं को बढ़ावा दिया जा रहा है। मोदी ने मायावती के उस बयान पर भी कटाक्ष किया जिसमें उन्होंने केंद्र में मज़बूत नही मजबूर सरकार की पैरवी की थी।

बुधवार को बीजेपी के ‘मेरा बूथ, सबसे मजबूत’ अभियान के तहत प्रधानमंत्री ने 5 शहरो के कार्यकर्ताओ से संवाद किया। नमो एप के ज़रिए हुए इस संवाद में मोदी ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा की उनकी नीति है ‘बांटो और राज करो’ जबकि बीजेपी ‘सबका साथ, सबका विकास’ के मंत्र के साथ काम करती है। मोदी ने आगे कहा की हम सुख बाँटने वाले है जबकि कांग्रेस समाज बाँटने वाली है।

गुजरात में उत्तर भारतीय पर हो रहे हमले और पलायन के मामले में बोलते हुए मोदी ने कहा की कांग्रेस छोटी-छोटी बातों पर लोगों को भड़का कर अपना उल्लू सीधा करती है। उनका काम ही है तोड़ो, बांटो और एक दूसरे से लड़ाओ। महगठबँधन पर कटाक्ष करते हुए मोदी ने कहा की जो लोग ज़मानत पर है वो अपना अस्तित्व बचाने का रास्ता ढूँढ रहे है। आप उसकी चिंता मत करो। वो मजबूरी में इकट्ठा हुए है। उनका केवल एक ही मक़सद है, मोदी हटाओ।

मालूम हो कि पीछले कुछ दिनो से गुजरात में उत्तर भारतीयो के ख़िलाफ़ हिंसा हो रही है जिसकी वजह से बड़ी संख्या में उत्तर भारतीय, गुज़रात से पलायन कर रहे है। इस मामले को लेकर कांग्रेस लगातार प्रधानमंत्री मोदी की चुप्पी पर सवाल खड़ा कर रही है। उधर इन हमलों के लिए भाजपा ने कांग्रेस विधायक अल्पेश ठाकोर और उनकी ठाकोर सेना को ज़िम्मेदार ठहराया है। लेकिन अल्पेश ने इन सभी आरोप से इंकार करते हुए कहा की वह नफ़रत की राजनीति नही करते।