Wednesday, September 22, 2021

 

 

 

मोदी के नेतृत्व में भारत बन रहा है ‘सांप्रदायिकता की प्रयोगशाला’: कन्हैया कुमार

- Advertisement -
- Advertisement -

जेएनयू छात्र नेता कन्हैया कुमार ने आज आरोप लगाते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार के पीछे आरएसएस की शक्ति है और वर्तमान व्यवस्था नीतियों के तहत “सांप्रदायिक और दलित विरोध की प्रयोगशाला” के तहत देश को बदला जा रहा है |

kanhiya

प्रगतिशील छात्र संघ के बैनर तले छात्रों की एक सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि ‘मोदी प्रधानमंत्री हैं और आरएसएस उनकी शक्ति उन्होंने देश को सांप्रदायिक और दलित विरोधी नीतियों की एक प्रयोगशाला के रूप में बदला दिया है और जब हम अपनी विचारधारा जातिवाद को समाप्त करने , सामाजिक समानता की मांग के बारे में बात करते हैं तो उन्हें डर लगता है’ |

कन्हैया, जेट एयरवेज के विमान में कथित तौर पर हुए शारीरिक हमले के मद्देनजर भारी पुलिस सुरक्षा के बीच यहां पहुंचे उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि वो इस तरह के हमलों से डरने वाले नहीं हैं |

उन्होंने कहा कि पुलिस झूठ बोल रही है कि सीट को लेकर झगड़ा हुआ है सीटों पर झगड़ा मुंबई लोकल ट्रेन में होता है विमान में नहीं | मैं हमला करने वालों के ख़िलाफ़ कोई शिकायत नहीं करूँगा क्यूँकि वे भी हम में से हैं लेकिन मैं डरने वाला नहीं हूँ लेकिन ये हमला मुझे पुणे तक सड़क मार्ग से यात्रा करने के लिए मजबूर करने को लेकर हुआ है |

उन्होंने “भारत माता की जय ‘के नारे के विवाद और योग गुरु रामदेव की टिप्पणी का जिक्र करते हुए कि हम निश्चित रूप से भारत माता की जय कहेंगे लेकिन इस पर किसी का एकाधिकार नहीं है |

कन्हैया ने आरोप लगाते हुए कि भारत माता का स्वरूप बदल दिया गया है पहले भारत माता के एक हाथ में अनाज और एक में तिरंगा झंडा होता था लेकिन अब उसके हाथ में भगवा झंडा होता है | ये लोग राष्ट्रध्वज को बदलना चाहते हैं इनको राष्ट्रवाद से कोई मतलब नहीं ये सिर्फ एक धर्म एक संस्कृति को बढ़ावा देना चाहते हैं | इनका राष्ट्रवाद “ब्राह्मणवाद” है जो देश के लिए खतरे का संकेत है |

कुमार ने कहा कि हमारे ख़िलाफ़ धारणा बनायी जा रही है कि हम छात्रों को प्रधानमंत्री के खिलाफ भड़का रहे हैं |

उन्होंने कहा कि ” मोदी से हमारी हमारी कोई व्यक्तिगत दुश्मनी नहीं है। हम केवल अपने अधिकारों की मांग कर रहे हैं। वह हमें रोजगार दें। हम लोगों के लोकतांत्रिक और संवैधानिक अधिकारों की बात करते हैं, जिसके लिए हमें राष्ट्र विरोधी राष्ट्रद्रोही के तौर पर पेश किया जा रहा है । ”

साभार: हिंदी डॉट सिआसत डॉट कॉम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles