केजरीवाल ने मोदी को बताया सैनिक विरोधी कहा, खुद खाना तक नही देते, हमें भी मदद करने से रहे रोक

नई दिल्ली | प्रधानमंत्री मोदी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के बीच चल रही राजनितिक जंग जगजाहिर है. आये दिन केजरीवाल , मोदी पर निशाना साधते रहते है. मौका मिलते ही मोदी भी केजरीवाल पर हमला करने का मौका नही चुकते. दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद यह जंग और मुखर हो गयी है. इस बार केजरीवाल ने सैनिको को लेकर मोदी पर तंज कसा है.

केजरीवाल ने ट्वीट कर मोदी को सैनिक विरोधी बताते हुए लिखा,’ नरेन्द्र मोदी, सैनिक विरोधी. मोदी जी खुद सैनिको को ढंग का खाना तक नही देते , हम मृत सैनिक के परिवार को कुछ दे रहे है तो क्यों रोक रहे है?’ केजरीवाल का इशारा पूर्व सैनिक रामकिशन ग्रेवाल को एक करोड़ रूपए देने की घोषणा के सम्बन्ध था. मालूम हो की रामकिशन ग्रेवाल ने पिछले साल OROP मामले में दिल्ली के जंतर मंतर पर जहर खाकर आत्महत्या कर ली थी. इसके बाद केजरीवाल ने पूर्व सैनिक के परिवार को एक करोड़ रूपए देने की घोषणा की थी.

इसी सिलसिले में केजरीवाल सरकार ने उपराज्यपाल से मंजूरी लेने के लिए फाइल उनके पास भेजी. लेकिन उपराज्यपाल अनिल बीजल ने तकनिकी खामियों का हवाला देते हुए केजरीवाल सरकार की फाइल लौटा दी. उपराज्यपाल ने अपने नोट में कहा की चूँकि रामकिशन ग्रेवाल दिल्ली के नागरिक नही है, हरियाणा के है, इसलिए मुआवजा नही दिया जा सकता.

31 दिसम्बर 2016 को अनिल बीजल ने दिल्ली के उपराज्यपाल पद की शपथ ली थी. करीब तीन महीनो के अन्तराल में केजरीवाल सरकार और उपराज्यपाल के बीच टकराव का यह पहला मामला है. इससे पहले उपराज्यपाल , केजरीवाल सरकार के न्यूनतम मजदूरी बिल और गेस्ट टीचर्स की सैलरी बढाने सम्बन्धी बिल पर अपनी मोहर लगा चुके है. हालाँकि केजरीवाल इसके लिए उपराज्यपाल को नही बल्कि मोदी को जिम्मेदार ठहरा रहे है.

विज्ञापन