सेना के जवानों द्वारा कश्मीरी युवक को जीप के बोनट पर बांधकर प्रताड़ित करने का विडियो सामने आने के बाद शनिवार को मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती दिल्ली में आर्मी चीफ बिपिन रावत से मुलाक़ात की. इस दौरान उन्होंने कहा कि सेना के कुछ जवानों की हरकत से घाटी में अमन की सालों की कोशिशों पर पानी फिर रहा हैं.

दरअसल, इस विडियो के सामने आने का बाद भी कई ऐसे विडियो सामने आये जिनमे सेना का भयावह चेहरा दिख रहा हैं. एक विडियो में सेना के जवान कुछ कश्मीरी लोगों की पिटाई कर डंडे के दम पर उनसे पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगवा रहे हैं. इन विडियो को लेकर मुफ्ती ने रावत से कहा कि तत्काल दोषियों पर कारवाई की जाए.

महबूबा ने रावत को बताया कि ज्यादती की खबरों के नतीजे सिर्फ राज्य को नहीं भुगतने पड़ रहे बल्कि इनसे राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी देश की छवि पर असर पड़ रहा है. महबूबा ने जनरल रावत को बताया कि जीप वाले वीडियो ने लोगों पर काफी नकारात्मक प्रभाव डाला है और लोग उससे नाराज हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

महबूबा ने कहा, ‘डंडे से कुछ नहीं निकलेगा, अबतक जो हुआ सो हुआ, लेकिन आगे से ऐसा मत करना. इससे सेना और सरकार द्वारा चलाए जा रहे सद्भावना ऑपरेशन और कश्मीरी युवाओं के लिए जो घूमने का प्रबंध किया जाता है उसपर प्रभाव पड़ेगा.

दरअसल महबूबा मुफ्ती इस मुद्दें को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मिलना चाहती थी लेकिन मोदी के भुवनेश्वर में बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में होने के कारण उनकी मुलाकात नहीं हो सकी.

Loading...