babri masjid

babri masjid

अयोध्या मामले में सुलह-समझौते को खारिज करते हुए अयोध्या के मस्जिदों के इमामों और प्रमुख मुस्लिम नेताओं की बैठक में फैसला लिया गया कि विवादित जमीन पर केवल मस्जिद ही बनेगी और इस मामले में कोई समझौता नहीं होगा.

मुख्य पक्षकार हाजी महबूब के आवास पर हुई इस बैठक में बाबरी केस के मुद्दई और मरहूम हाशिम अंसारी के बेटे इकबाल अंसारी भी शामिल हुए. इस दौरान प्रस्ताव पारित किया गया. जिसमे कहा गया, ‘विवादित स्थल पर केवल मस्जिद ही थी, जो मंदिर तोड़कर नहीं बनी थी. मंदिर राम चबूतरे तक की जमीन पर ही था. मस्जिद अल्लाह की अमानत है. इसे किसी को दिया नहीं जा सकता. ऐसे में मस्जिद उसी स्थान पर ही बनेगी.’

बैठक के बाद इकबाल अंसारी ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा, ‘अयोध्या के मुसलमानों की मांग है कि जहां बाबरी मस्जिद थी, वहीं बनाई जाए. इसी विषय को लेकर यह मीटिंग हुई है. इसमें मुस्लिम समाज के सारे लोग बुलाए गए. हाजी महबूब हैं मौके पर हम भी हैं और अयोध्या के तमाम लोग हैं.’

उन्होंने कहा कि बैठक में यह तय हुआ है कि कोई समझौता नहीं मानेंगे.. मस्जिद उसी स्थान के अलावा और कहीं नहीं हो सकती. इस मामले में कोर्ट का जो फैसला होगा, वह माना जाएगा. ऐसे में अब स्पष्ट है कि श्री श्री रविशंकर की सुलह की कोशिश खत्म होती दिख रही है.

आप को बता दें कि इस मामले में 14 मार्च को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है. पिछली सुनवाई के दौरान सुन्नी वक्फ बोर्ड ने अदालत से दस्तावेजों के अनुवाद के लिए कुछ और समय मांगा था. जिसके बाद कोर्ट ने 7 मार्च तक सभी दस्तावेजों को अदालत में जमा कराने का आदेश दिया है.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें