उत्तरप्रदेश पुलिस का एक बार फिर से सांप्रदायिक चेहरा सामने आया है। जिसमे सुरक्षा के नाम पर हिरासत ले ली गई मेडिकल छात्रा से मेरठ पुलिस ने पुलिस जीप में न केवल मारपीट की। बल्कि उसे अपशब्द भी कहे। दरअसल हिन्दू होकर मुस्लिम लड़के से शादी करने की चाहत रखना पुलिसकर्मियों के लिए एक गुनाह था।

जानकारी के अनुसार, दो दिन पहले मेडिकल कालेज की नर्सिंग छात्रा अपने सहपाठी छात्र के साथ जागृति विहार में उसके कमरे पर गई थी। दोनों वहां पढ़ाई कर रहे थे। इसी दौरान विहिप कार्यकर्ता मोहल्ले में पहुंच गए और छात्र-छात्रा को पकड़ लिया। आरोप लगाया कि दोनों यहां अश्लीलता कर रहे हैं। दोनों को पुलिस के हवाले कर दिया। यूपी 100 की गाड़ी में छात्रा को थाने लाया जा रहा था। इसी दौरान यूपी 100 के दो कांस्टेबल और मेडिकल थाने में तैनात महिला कांस्टेबल ने छात्रा से अभद्रता की। यूपी 100 के चालक ने इसकी वीडियो बनाई।

वीडियो में दिखाई दे रहा है कि महिला कांस्टेबल छात्रा से मारपीट कर रही है। पुलिस कांस्टेबल लगातार युवती से ‘गंदी बात’ कर रहे हैं। अश्लीलता की जा रही है और धार्मिक टिप्पणी की गई। बार बार युवती को सबक सिखाने की बात कही जा रही है। युवती की पहचान उजागर करते हुए पुलिस ने ही उसके मुंह पर बंधा कपड़ा भी उतरवा दिया।

सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद मेरठ आईजी ने इस पूरे प्रकरण के जांच के आदेश दे दिए हैं। मेरठ के एसपी सिटी रणविजय सिंह ने बताया, ” सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो के आधार पर प्रथमदृष्टया दोषी पाए जाने पर तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है। जिनमें से एक महिला पुलिसकर्मी भी है। मामले की जांच अभी भी जारी है।”

छात्रा के साथ मारपीट के वायरल हो रहे वीडियो में साफ सुना जा सकता है कि एक कांस्टेबल लड़की से कहा रहा है कि ‘इतने हिंदू हैं, इसके बावजूद भी तुम मुस्लिम के साथ अफेयर रखे हुए हो।’ इसके बाद वह सिपाही लड़की को गाली देता है और लड़की के बगल में बैठी महिला कांस्टेबल लड़की को पीटना शुरू कर देती है।