लखनऊ | उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनते ही अवैध बूचड़खानों पर तेजी से कार्यवाही हो रही है. जिसकी वजह से इस व्यापार से जुड़े हुए काफी लोगो के रोजगार पर संकट आ गया है. उधर मीट व्यापार से जुड़े लोगो ने सरकार की कार्यवाही के खिलाफ शनिवार को हड़ताल पर जाने का फैसला किया जो रविवार को जारी रहेगी. इसकी वजह से उत्तर प्रदेश में लोगो को शाकाहार के साथ काम चलाना पड़ रहा है.

अपने मशहूर व्यंजनो के लिए मशहूर लखनऊ में शनिवार को लोग मीट के लिए तरसते दिखे क्योकि मीट मुर्गा व्यापार कल्याण समिति ने हड़ताल पर जाने का फैसला किया था. उन्होंने एलान किया था की शनिवार को यह हड़ताल केवल लखनऊ तक सीमित रहेगी लेकिन रविवार को पुरे राज्य के व्यापारी इसमें शामिल होंगे. खबर है की कानपूर के मुर्गा व्यापर मंडल ने भी इस हड़ताल में शामिल होने का फैसला किया है.

हड़ताल को देखते हुए अकेले लखनऊ में करीब 5000 दुकाने बंद रही. इसके अलावा कई रेस्त्रा मालिको ने भी हड़ताल के समर्थन में अपनी दुकाने बंद रखी. उधर कार्यवाही से चिंतित नोयडा और गाजियाबाद के सड़क किनारे दुकानदारों ने व्यापार बंद करने में ही भलाई समझी और रातोरात ये दुकाने वहां से गायब हो गयी. चूँकि मीट सप्लायर ने इस हड़ताल का आह्वान किया है इसलिए पुरे प्रदेश में मटन की सप्लाई पर काफी प्रभाव पड़ा है.

लखनऊ मुर्गा मंडी समिति और मीट मुर्गा व्यापार कल्याण समिति ने शनिवार को एक मीटिंग कर हड़ताल पर जाने और सभी सप्लाई बंद करने का फैसला किया. इन दोनों समितियों के अंडर करीब 5000 दुकाने और 650 डीलर है. लखनऊ मुर्गा समिति के प्रवक्ता सनाज्य सक्सेना ने पत्रकारो से बात करते हुए कहा की ज्यादातर डीलर्स ने 2012 से लाइसेंस के लिए आवेदन किया हुआ है लेकिन म्युन्सिपल कारपोरेशन ने सभी फाइलें लटका रखी है.

सक्सेना ने बताया की वो वैध तरीके से व्यापर करना चाहते है लेकिन अधिकारिय ओकी मन मर्जी की वजह से ज्यादातर डीलर्स का लाइसेंस न तो रिन्यू किया जा रहा है और न ही नए लाइसेंस जारी किये जा रहे है. इसके लिए अधिकारियो का सुस्त रवैया जिम्मेदार है. हालाँकि म्युन्सिपल अधिकारियो ने सक्सेना के आरोपों को ख़ारिज करते हुए कहा की हमारे पास आये 602 लाइसेंस में से 340 लाइसेंस रिन्यू कर दिए गए है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?