aala

प्रतिबंधित दवाइयां रखने के आरोप में गिरफ्तार किए गए शारजाह में गिरफ्तार किए गए मौलाना तौसीफ रजा खां (तौसीफ मियां) ने आला हजरत के कुल शरीफ के मंच पर अपनी आपबीती बयान करते हुए कहा कि उन्हे आला हजरत का पोता होने की वजह से शारजाह पुलिस ने प्रताड़ित किया।

उन्होने बताया कि दवा तो बहाना था केवल आला हजरत का पोता होने की वजह से परेशान किया गया। तौसीफ मिया ने कहा, पूछताछ में भी पुलिस यही सवाल बार-बार दोहराती थी कि वह बरेलवी हैं और आला हजरत खानदान से हैं। इस दौरान उन्होंने मंच से भारत सरकार और केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार का शुक्रिया अदा किया।

मौलाना तौसीफ ने कहा, शारजाह में पहले भी आला हजरत खानदान और अन्य बुजुर्गाने दीन को बेवजह परेशान किया जाता रहा है। इस बार वह उनका निशाना बने। उन्होंने कहा, तीन से चार घंटे लगातार उनसे पूछताछ में बरेलवी, आला हजरत और पैगंबरे रसूल से जुड़े सवाल पूछे जाते थे।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

03 11 2018 2blyu67 18603345

उन्होंने बताया कि पुलिस को वह जवाब देते थे कि बरेलवी कोई मजहब नहीं, वह सुन्नी हैं। आला हजरत के खानदान से हैं। बताया कि अगर भारत सरकार वहां की हुकूमत पर दबाव न बनाती और केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार इतना प्रयास न करते तो इतनी जल्दी उनकी रिहाई होना मुश्किल थी।

बता दें कि पिछले दिनों तौसीफ मियां को शारजाह पुलिस ने प्रतिबंधित दवाइयां रखने के इल्जाम में हिहरासत में ले लिया था। आठ दिन बाद वह रिहा हो सके थे।

Loading...