सयुंक्त राष्ट्र की बैठक में CAA पर चर्चा, मौलाना उमर इलियासी ने रखा भारत का पक्ष

देश की राजधानी में सीएए को लेकर हुई हिं’सा के बीच जेनेवा में ह्यूमन राइट्स काउंसिल की बैठक में भारतीय सांसद एम जे अकबर और मुस्लिम धर्म नेता मौलाना उमर इलियासी ने नागरिकता संशोधन कानून (CAA) पर भारत का पक्ष रखा। जिसमे उन्होने कहा कि भारत में मुस्लिम समुदाय के हालात विश्व में किसी भी और देश से कहीं ज्यादा बेहतर हैं।

पूर्व विदेश राज्य मंत्री और भाजपा सांसद एम जे अकबर ने अपने संबोधन में कहा कि भारत में सभी धर्मों को बराबर के अधिकार हैं और यही भारतीय सविंधान का आधार है। अकबर ने कांग्रेस सांसद शशि थरुर के हालिया बयानों पर टिप्पणी करते हुए कहा कि शशि थरुर के बयान सच्चाई से परे है। उन्होंने एक बार फिर स्पष्ट किया कि नागरिकता कानून से किसी की भी नागरिकता छीनी नहीं जाएगी।

वहीं बैठक में मौलाना उमर इलियासी ने कहा कि भारत में मुस्लिम समुदाय की संख्या दुनिया में दूसरी सबसे ज्यादा है और सभी भारत में सविंधान के तहत बराबर का अधिकार प्राप्त है। इलियासी ने ये भी कहा कि पाकिस्तान को भारत के आतंरिक मामलों में दखल देने का कोई हक नहीं है। भारत में मुसलमान जीतने सुरक्षित हैं उतने विश्व में कहीं और नहीं।

मौलाना इलियासी ने दोहराया कि नए कानून के बावजूद कहीं का भी कोई भी मुसलमान नागरिकता के लिए कानूनन आवेदन कर सकता है। भारत के साथ कई यूरोपीय सांसदों ने भी कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के तहत किसी की नागरिकता लेने का कतई कोई प्रावधान नहीं है और इसे लेकर कोई विवाद नहीं होना चाहिए।

बता दें कि सीएए के विरोध में पिछले दो महीनों से पूरे देश में विरोध-प्रदर्शन जारी है। जिसमे 80 से ज्यादा लोगों की मौ*त हो चुकी है। हाल ही में दिल्ली में हुई हिंसा में 44 के करीब लोग मा’रे जा चुके है। इसके अलावा कई मस्जिदों को निशाना बनाया गया है।

विज्ञापन