Sunday, January 23, 2022

#CAA के विरोध में बोले मन्नान मियां, कहा – तमाम खानकाहों में इत्तेहाद की जरूर

- Advertisement -

नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ मुसलमानों के सुन्नी मरकज़ दरगाह आला हज़रत की ओर से काज़ी-ए-हिन्दुस्तान जानशीन ताजुशारिया मुफ्ती मोहम्मद असजद रज़ा खाँ कादरी कडा विरोध जताया है। जिसका अब ताजे मिल्लत मौलाना मन्नान रजा खां (मन्नानी मियां) ने भी समर्थन किया है।

असजद मियां के इत्तेहाद की दावत पर खुशी जाहिर करते हुए उन्होने कहा कि लड़ने की जरूरत नहीं है, सभी मोहब्बत से रहें। आला हजरत खानदान के बुजुर्ग मन्नानी मियां ने मारहरा शरीफ और कछौछा शरीफ सहित तमाम खानकाहों और सिलसिलों का जिक्र करते हुए सभी को एक करने की बात कही।

उन्होने यह भी कहा कि इंतसार की नहीं अब इत्तेहाद की जरूरत है। इत्तेहाद ही जिंदगी है और इंतसार मौत। उन्होंने कहा कि एक दूसरे को बुरा कहना छोड़ दें, एक दूसरे से मोहब्बत से पेश आएं। यह हमारी आवाज नहीं यह आला हजरत इमाम अहमद रजा खां की आवाज है। उनका ही खून हमारी रगों में बहता है।

बता दें कि मुफ्ती मोहम्मद असजद रज़ा खाँ कादरी ने नागरिकता संशोधन कानून की निंदा करते हुए कहा यह बिल मौलिक अधिकारों के अनुच्छेद (14) (कानून के अनुसार समानता का अधिकार) और अनुच्छेद (15) (सरकार धर्म, जाति, लिंग, भाषा और क्षेत्र के आधार पर नागरिकों को भेदभाव नहीं करेगी) का घोर उल्लंघन करता है।

उन्होने कहा, जो लोग एनआरसी और केब का विरोध कर रहे है। वह काबिल ए तारीफ है। शांति से विरोध करना हमारा हक़ है। इसकी इजाज़त अनुच्छेद (19) हमे देता है। और विरोधियों को भी यह आवाज़ सुनना चाहिए। सिर्फ वोट बैंक के समय ही बोलेंगे ? और एनआरसी पर येह मेरी राय है कि देश की जनता को एनआरसी का बायकाट करना चाहिए । यह कानून हर जाति और धर्म के लिए नुक्सान दायक है।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles