Friday, December 3, 2021

मंदसौर रेप केस: फैलाई जा रही आरोपी के समर्थन में मुस्लिमों की रैली की फर्जी खबर

- Advertisement -

मध्य प्रदेश के मंदसौर में पिछले दिनों आठ वर्षीय बच्ची के साथ हुई दरिंदगी के मामले मे सबसे पहले जिस मुस्लिम समुदाय ने आरोपी के खिलाफ आवाज बुलंद की उसे ही अब बदनाम करने की घिनोनी साजिश रची जा रही है। ताकि बहुसंख्यक हिन्दू समाज को भड़का कर महोल खराब किया जा सके।

इस बात का खुलासा ऑल्ट न्यूज ने अपनी जांच में किया है। www.indiaflare.com वेबसाइट ने एक पोस्ट शेयर की है। जिसमे शीर्षक दिया गया कि ‘क़ुरान में दूसरे धर्म की लड़कियों से बलात्कार जायज़, इरफ़ान खान को रिहा करो।’ इस भड़काऊ शीर्षक वाली खबर को 1 जुलाई को पोस्ट किया गया था, जिसे अब तक 16,000 से ज्यादा बार शेयर किया जा चुका है।

9d5aafbf

ऑल्ट न्यूज ने अपनी जांच में पाया कि इस खबर में मुस्लिम लोगों की तस्वीरों के साथ छेड़छाड़ की गई है। इस खबरे में लगी तस्वीरों में रैली निकालते मुस्लिम लोग नजर आ रहे हैं, जिनके हाथ में नजर आ रही तख्ती पर ‘इरफ़ान को रिहा करो’ लिखा दिखाई देता है, वहीं पीछे कुछ तख्तियों पर ‘रिहा करो’ लिखा है। द वायर में छपी खबर के मुताबिक यह फोटो पूरी तरह से झूठी है।

5cc

फोटोशॉप की गई तस्वीर की हकीकत ये है कि यह रैली आरोपी के पक्ष में नहीं बल्कि इस बलात्कार की घटना के बाद पीड़िता के समर्थन में निकाली गयी थी। लेकिन तस्वीर के साथ छेड़छाड़ कर इसे आरोपी के समर्थन मे दिखा दी गई। फोटोशॉप की गई तस्वीर मे लिखा है – ‘इरफ़ान को रिहा करो’  जबकि असली तस्वीर मे लिखा है – नहीं सहेंगे बेटी पर वार, बंद करो ये अत्याचार’ जिसे इंडियाफ्लेअर वेबसाइट पर ‘इरफ़ान को रिहा करो’ कर दिया गया है।

5c42cfd2

इस लेख में यह दावा भी किया गया है कि इस मामले में आरोपी को फांसी दिलवाने के लिए कोई मुस्लिम सड़क पर नहीं उतरा लेकिन कुरान का हवाला देते हुए आरोपी के पक्ष में रैली निकाली। साथ ही पाठकों को चेताया भी कि वे इस रिपोर्ट के उलट मीडिया में चल रही किसी भी अन्य रिपोर्ट का विश्वास न करें क्योंकि वे झूठी हैं।

5c42cfd2

इतना ही नहीं वेबसाइट के एक अन्य लेख में मध्य प्रदेश के कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया को भी किया गया। दरअसल उन्होने बयान दिया था कि मंदसौर की बेटी के साथ हैवानियत झकझोरने वाली है। इस बर्बरतापूर्ण कृत्य की फाँसी के सिवाय कोई सज़ा हो ही नहीं सकती| सरकार की ज़िम्मेदारी बनती है की मामला फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाये और 15 दिन के भीतर सज़ा हो ये सुनिश्चित करें।

लेकिन वैबसाइट ने लिखा कि दोनों आरोपी बेक़सूर हैं और मामले की सीबीआई जांच करवाई जानी चाहिए।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles