पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मोदी सरकार की कई योजनाओं के नाम बदल दिए हैं. ममता ने सर्कुलर जारी कर पीएम मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट  ‘स्वच्छ भारत अभियान’ के नाम को भी बदल दिया हैं. अब पश्चिम बंगाल में ये अभियान ‘मिशन निर्मल बांग्ला’ के नाम से जाना जाएगा.

इसके अलावा ममता सरकार ने केंद्रीय स्तर पर अजीविका (राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन), प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना (PMGSY) और प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) को अब आनंदधारा (राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन), बांग्लार ग्राम सड़क योजना और बांग्लार गृह प्रकल्प बदल कर रख दिया हैं.

योजनाओं के नाम बदलने को लेकर ममता सरकार ने कहा कि राज्य सरकार इन योजनाओं का 40 फीसद लागत वहन करती है, जोकि पहले 10 प्रतिशत था. ऐसे में केंद्र सरकार को ही इसका क्रेडिट क्यों दिया जाए. इसके चलते सरकार की ओर से नामों को बदलने का फैसला लिया गया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

वहीँ बीजेपी ममता के इस फैसले के विरोध में आ गई हैं. बीजेपी नेता चंद्र कुमार बोस ने ममता बनर्जी की तुलना बाबर से कहते हुए कहा कि ‘बाबर ने अयोध्या में मंदिर को तोड़कर बाबरी मस्जिद का निर्माण किया। ठीक उसी तरह ममता बनर्जी केंद्र की योजनाओं का नाम बदल रही हैं.’

Loading...