madani

जमीयत उलेमा ए हिन्द के मौलाना महमूद मदनी ने ने पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी को अनमोल रत्न करार देते हुए उनसे सीख लेने की नसीहत दी है। उन्होने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी भारत रत्न ही नहीं बल्कि अनमोल रत्न थे। जिनका कोई मोल नहीं था।

मदनी ने अटल बिहार की वाजपेयी की तारीफ में एक शाइर भी पड़ा। उन्होंने कहा कि बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदावर पैदा। हुआ करता है सदियों में कोई ऐसा बशर पैदा। बता दें कि मदनी पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की श्रद्धांजलि सभा में पहुंचे थे।

Loading...

गौरतलब है कि भारत के पूर्व प्रधानमंत्री और भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेई का लम्बी बीमारी के बाद 16 अगस्त यानी गुरुवार की शाम 5:05 बजे दिल्ली के एम्स में निधन हो गया।

जानिए अटल बिहारी वाजपेयी के बारें में –

आजीवन संघ के प्रचारक रहे अटल बिहारी वाजपेयी को आरएसएस ने जनसंघ में काम करने के लिए भेजा था, वे मोरारजी देसाई की सरकार में विदेश मंत्री बने जबकि आडवाणी सूचना-प्रसारण मंत्री रहे। वे देश के तीन बाद प्रधानमंत्री रहे। हालांकि केवल एक बार ही अपना कार्यकाल पूरा कर पाए।

उदार छवि वाले वाजपेयी बीजेपी की कट्टरता को छुपाने का एक साधन थे। उनकी उदार छवि का अंदाजा गोवा में बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में 12 अप्रैल को वाजपेयी ने जो भाषण दिया था उसे लगाया जा सकता है। उन्होने कहा था कि “मुसलमान जहाँ कहीं भी हैं, वे दूसरों के साथ सह अस्तित्व पसंद नहीं करते, वे दूसरों से मेलजोल नहीं चाहते, अपने विचारों को शांति से प्रचारित करने की जगह वे अपने धर्म का प्रसार आतंक और धमकियों के ज़रिए करते हैं।”

बाबरी मस्जिद को गिराने से पहले 5 दिसंबर को लखनऊ में दिया अटल का भाषण –

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें