Wednesday, December 8, 2021

ईवीएम् छेड़छाड़: महाराष्ट्र जिला परिषद चुनाव में बीजेपी को जा रही थी सभी वोट, आरटीआई में हुआ खुलासा

- Advertisement -

बुलधाना | हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनावो में बीजेपी की प्रचंड जीत के बाद ईवीएम् में छेड़छाड़ को लेकर काफी बहस छिड़ी. विपक्षी दलों ने आरोप लगाया की ईवीएम् में छेड़छाड़ की वजह से बीजेपी को प्रचंड जीत मिली. हालाँकि इलेक्शन कमीशन ऑफ़ इंडिया बार बार इस बात से इंकार करता रहा. यही नही चुनाव आयोग ने सभी पार्टियों को ईवीएम् हैक करने की भी चुनौती दी जिसमे कोई भी राजनीतिक दल सफल नही हो सका.

अब एक बार फिर ईवीएम् छेड़छाड़ का मामला बोतल से बाहर आ गया है. दरअसल महाराष्ट के बुलधाना जिला अधिकारी ने एक आरटीआई के जवाब में यह माना है की जिला परिषद चुनावो में इस्तेमाल हुई एक ईवीएम् में छेड़छाड़ चिन्हित हुई थी. उन्होंने बताया की उक्त ईवीएम् में कोकोनट निशान का बटन दबाने के बाद कमल के निशान की एलईडी लाइट जल रही थी.

आरटीआई एक्टिविस्ट अनिल गलगाली ने मीडिया को बताया की अभी हाल ही में संपन्न हुए बुलधाना जिला पंचायत सदस्य के चुनावो में सुल्तानपुर बूथ पर इस्तेमाल हुई एक ईवीएम् में छेड़छाड़ पता चली थी. अनिल ने अपनी आरटीआई का हवाला देते हुए कहा की मैंने बुलधाना जिलाधिकारी के समक्ष आरटीआई लगाकर रिटर्निंग ऑफिसर की की जाँच रिपोर्ट के बारे में जानकारी मांगी थी.

बुलधाना जिलाधिकारी कार्यालय से मिले जवाब में बताया गया सुल्तानपुर के बूथ नम्बर 56 पर चुनाव के दौरान एक ईवीएम् में छेड़छाड़ का मामला सामने आया था. यहाँ मतदाता ने शिकायत दर्ज कराई थी की पहले नम्बर पर मौजूद कोकोनट का बटन दबाने के बावजूद चौथे नम्बर स्थित कमल के निशान के आगे की लाइट जल रही है. कई शिकायत मिलने के बाद पोलिंग अधिकारी ने रिटर्निंग ऑफिसर को इसकी जानकारी दी.

इसके बाद जिलाधिकारी ने रिटर्निंग ऑफिसर से उक्त ईवीएम् के बारे में रिपोर्ट मांगी तो उन्होने अपने जवाब में यह माना की ईवीएम् में कोकोनट का बटन दबाने के बाद कमल के निशान के आगे की लाइट जल रही थी. जिलाधिकारी के इस खुलासे के बाद विपक्षी दल एक बार फिर इस मुद्दे को लेकर मोदी सरकार को घेर सकता है. इसके अलावा चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर भी सवाल खड़े हो सकते है?

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles