ऑयल कंपनियों ने इस महीने एलपीजी गैस सिलिंडर की कीमत में 100 रुपए की वृद्धि कर उपभोक्ताओं की कमर तोड़ दी। इतना ही नहीं तेल कंपनियों की और से अब सब्सिडी भी नहीं दी जा रही है।

जानकारी के अनुसार, तेल मार्केटिंग कंपनियों ने 15 दिसंबर को फिर से एलपीसी गैस की कीमत बढ़ाई। इससे पहले 3 दिसंबर को गैस की कीमत में 50 रुपये की बढ़ोतरी की गई थी। ऐसे में गैस के दाम 100 रुपये और महंगे हो चुके हैं। इसके साथ मई से अधिकांश उपभोक्ताओं के खाते में सब्सिडी भी नहीं आ रही है।

महज 15 दिन पहले दिल्ली में 14.2 किलो का बिना सब्सिडी वाला गैस सिलेंडर 594 रुपये में मिल रहा था, जो 1 दिसंबर के बाद 644 रुपये में मिलने लगा और अब उसकी कीमत 694 रुपये हो गई है। 5 किलो और 19 किलो के सिलेंडर की कीमत भी बढ़ाई गई है। 5 किलो के सिलेंडर की कीमत 18 रुपये बढ़ा दी गई है। वहीं 19 किलो के सिलेंडर की कीमत भी 36.50 रुपये बढ़ाई गई है।

सरकार एक वर्ष में प्रत्येक परिवार के लिए 14.2 किलोग्राम के 12 सिलिंडरों पर सब्सिडी देती है। इंडस्ट्री के लोगों का कहना है कि सरकार ने अभी तक सरकारी तेल कंपनियों को नहीं बताया है कि दिसंबर में सिलिंडर खरीदने वाले उपभोक्ताओं को सब्सिडी मिलेगी या नहीं।

सरकार के लिए कुकिंग गैस सब्सिडी इस वित्त वर्ष की पहली छमाही में 1126 करोड़ रुपये रह गई जो वित्त वर्ष 2019-20 में 22635 करोड़ रुपये थी। तेल की कीमतों में कमी और डोमेस्टिक रिफिल रेट्स में तेजी से 2019-20 में एलपीजी सब्सिडी में 28 फीसदी कमी आई। 2018-19 में यह 31,447 करोड़ रुपये थी।