कोरोना वायरस के चलते देशभर में लागू लॉकडाउन तीन हफ्ते और बढ़ाया जा सकता है। दरअसल, कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए कई राज्यों ने केंद्र से लॉकडाउन बढ़ाने की अपील की है। बता दें कि कोरोना वायरस के बढ़ते हुए प्रकोप को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिन के संपूर्ण लॉकडाउन का ऐलान किया था, जो 14 अप्रैल को खत्म हो रहा है। लेकिन भारत में अब तक 4481 कोरोना मरीज सामने आ चुके हैं, जिसमें से 114 की मौ’त हो चुकी है।

सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यस से कैबिनेट की बैठक हुई थी, इस बैठक के बाद जब केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से पूछा गया कि क्या 15 अप्रैल से देश में लॉकडाउन हट जाएगा तो उन्होंने कहा कि देशहित में जो भी फैसला होगा वह सही समय पर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि हम वैश्विक स्थित पर भी लगातार नजर बनाए हुए हैं। वहीं, देश के कुछ राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने लॉकडाउन को लेकर अपनी स्थिति स्पष्ट की है।

शीर्ष सरकारी सूत्रों ने बताया है कि कई सारे राज्यों और विशेषज्ञों ने केंद्र सरकार से देश में जारी लॉकडाउन को बढ़ाने की अपील की है। केंद्र सरकार राज्यों और विशेषज्ञों की सलाह पर विचार कर रही है। तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने केंद्र सरकार को सुझाव दिया  कि लॉकडाउन को और दो हफ्तों के लिए बढ़ा दिया जाए। केसीआर ने जिस रिपोर्ट के आधार पर यह सुझाव दिया था, उसमें 2 जून तक लॉकडाउन लागू करने की अपील की गई थी।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि लॉकडाउन को तुरंत नहीं हटाया जाना चाहिए। इसको चरणबद्ध तरीके से हटाया जाना चाहिए। सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि केंद्र सरकार को राज्य सरकारों को लॉकडाउन हटाने और लगाने का अधिकार देना चाहिए। लॉकडाउन हटाने का फैसला स्थानीय आधार पर होना चाहिए।

वहीं भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के एक अध्ययन के मुताबिक अगर लॉकडाउन या दूरी बरतने के नियमों का पालन नहीं हो तो कोरोना वायरस का एक मरीज 30 दिन में 406 लोगों को संक्रमित कर सकता है। इस स्थिति को देखते हुए सरकार तीन हफ्ते के लिए लॉकडाउन बढ़ा सकती है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन