Sunday, September 19, 2021

 

 

 

लांस नायक नज़ीर अहमद वानी को अशोक चक्र, आतंक की राह छोड़ सेना में हुए थे शामिल

- Advertisement -
- Advertisement -

इस बार गणतंत्र दिवस पर पिछले साल कश्मीर में शहीद हुए लांस नायक नज़ीर अहमद वानी को मरणोपरांत अशोक च्रक से सम्मानित किया जाएगा। नज़ीर अहमद वानी ये सम्मान प्राप्त करने वाले पहले कश्मीरी होंगे। यह खबर ऐसे समय में आई है जब बारामूला को घाटी का पहला आतंक मुक्त जिला घोषित किया गया है।

जम्मू-कश्मीर की कुलगाम तहसील के अश्मूजी गांव के रहने वाले नज़ीर एक समय खुद आतंकवादी थे। वानी जैसों के लिए कश्मीर में ‘इख्वान’ शब्द इस्तेमाल किया जाता है। बंदूक थामकर वह जाने किस-किससे किस-किस चीज़ का बदला लेने निकले थे। पर कुछ वक्त बाद ही उन्हें गलती का अहसास हो गया और वह आतंकवाद छोड़कर सेना में भर्ती हो गए।

अधिकारियों ने बताया कि वानी दक्षिण कश्मीर में कई आतंकवाद रोधी अभियानों में शामिल रहे। वानी कुलगाम के अश्मुजी के रहने वाले थेह 25 नवंबर को भीषण मुठभेड़ के दौरान शहीद हो गए थे। अशोक चक्र भारत का शांति के समय दिया जाने वाला सर्वोच्च वीरता पुरस्कार है। वानी को आतंकवादियों से लड़ने में अदम्य साहस का परिचय देने के लिए सेना पदक भी दिया गया ।

राष्ट्रपति के सेक्रटरी की ओर से जारी प्रेस रिलीज़ बताती है, ‘लांस नायक वानी ने दो आतंकियों को मारने और अपने घायल साथी को बचाते हुए सबसे बड़ा बलिदान दिया। खतरा देखते हुए आतंकियों ने तेज गोलीबारी शुरू कर दी और ग्रेनेड भी फेंकने लगे। ऐसे अकुलाहट भरे वक्त में वानी ने एक आतंकी को करीब से गोली मारकर खत्म कर दिया।’

23 नवंबर 2018 के इस एनकाउंटर में वानी और उनके साथियों ने कुल 6 आतंकियों को मार गिराया था। इनमें से दो को वानी ने खुद मारा था। एनकाउंटर में वह बुरी तरह ज़ख्मी हो गए थे और हॉस्पिटल में इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया था। 26 नवंबर को अंतिम संस्कार से पहले वानी को उनके गांव में 21 तोपों की सलामी दी गई थी। वह अपने पीछे पत्नी और दो बच्चे छोड़ गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles