Sunday, October 24, 2021

 

 

 

44 पुलों के निर्माण से बोखलाया चीन, बोला – लद्दाख और अरुणाचल को हमने नहीं दी मान्यता

- Advertisement -
- Advertisement -

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) द्वारा सात राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में बनाए गए 44 पुलों के उद्घाटन किया। जिसको लेकर चीन की बोखलाहट सामने आई है। चीन ने कहा है कि भारत ने लद्दाख को गैरकानूनी रूप से संघशासित प्रदेश घोषित किया है।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता झाओ लीजियान (Zhao Lijian) ने सीमा पर अधोसंरचना निर्माण (infrastructure development) को दोनों पक्षों के बीच तनाव का प्रमुख कारण बताया है। उनहोंने कहा कि किसी भी पक्ष को ऐसी कार्रवाई नहीं करनी चाहिए जिससे कि तनाव में इजाफा हो।

चीन के प्रवक्‍ता ने कहा, ‘पहले तो मैं यह स्‍पष्‍ट करना चाहता हूं कि चीन, लद्दाख को केंद्र शासित क्षेत्र (Ladakh Union Territory) के रूप में मान्‍यता नहीं देता। इसे और अरुणाचल प्रदेश को भारत ने अवैध रूप से स्‍थापित किया है। हम सैन्‍य उद्देश्‍य से सीमा के पास बुनियादी सुविधाओं के विकास के खिलाफ हैं।’

उन्‍होंने कहा कि सहमति के आधार पर किसी भी पक्ष में सीमा के आसपास ऐसा कदम नहीं उठाना चाहिए जिससे तनाव बढ़े। इससे स्थिति को सामान्‍य करने के दोनों पक्षों के प्रयासों को नुकसान पहुंचेगा। उन्‍होंने यह भी कहा कि भारतीय पक्ष सीमा पर बुनियादी ढांचे को बढ़ाने के साथ-साथ सेना की तैनाती कर रहा है और दोनों पक्षों के बीच तनाव बढ़ने का यह मूल कारण है।

गौरतलब है कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को को सेना के सीमा सड़क संगठन (Border Road Organization) या बीआरओ (BRO) द्वारा निर्मित 44 पुलों के उद्घाटन समारोह में बड़ा बयान देते हुए कहा था कि पाकिस्तान और चीन एक मिशन के तहत सीमा विवाद खड़ा कर रहे हैं।

रक्षा मंत्री ने कहा,  देश हर क्षेत्र में कोविड 19 के कारण उपजी अनेक समस्याओं का सामना कर रहा है। वह चाहे कृषि हो या अर्थव्यवस्था, उद्योग हों या सुरक्षा व्यवस्था। सभी इससे गहरे प्रभावित हुए हैं। इस विकट समय में पाकिस्तान के बाद चीन द्वारा सीमा पर एक मिशन के तहत विवाद पैदा किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles