नई दिल्ली | भारतीय एयर फाॅर्स के एयर चीफ मार्शल बीएस धनोवा ने आतंकियों के खिलाफ वायुसेना के इस्तेमाल पर सहमती जताते हुए कहा है की भारत सरकार के पास यह भी एक विकल्प मौजूद है. एक इंटरव्यू के दौरान धनोवा ने कहा की फ़िलहाल वायुसेना के पास जंगी जहाजो की कमी है. लेकिन फिर भी हम उपलब्ध संसाधनों से बेहतर करने के लिए तैयार है.

इंडियन एक्सप्रेस को दिए इंटरव्यू में बीएस धनोवा ने हर पहलु पर बात की. उन्होंने वायुसेना में जंगी जहाजो की कमी पर नाराजगी जताते हुए कहा की यह हमारे लिए बड़ी चुनौती है. यह कुछ इस तरह है जैसे हम 11 की जगह 7 खिलाडियों के साथ क्रिकेट मैच खेलने मैदान में उतर गए हो. हालाँकि उन्होंने माना की वायुसेना , पाकिस्तान के खिलाफ वायु शक्ति के इस्तेमाल के लिए पूरी तरह तैयार है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बीएस धनोवा ने कहा की अगर सरकार आदेश देती है तो हम आतंकी हमलो के खिलाफ एक विकल्प हो सकते है. उन्होंने दावा किया की हम उस स्थिति में है की सरकार के आदेश पर हम जब चाहे मओवादियो पर हमला कर सकते है. लेकिन हम यह परिकल्पना नही करना चाहते की यह हमला भारतीय सीमा में ही हो. धनोवा ने कहा की हम फ़िलहाल उस स्थिति में है जब पाकिस्तान या चीन के साथ कभी भी लड़ना पड़ सकता है.

धनोवा ने बताया की वायुसेना के पास केवल 32 जंगी जहाज है. इसके अलावा केंद्र सरकार ने मात्र 42 जंगी जहाजो की मंजूरी और दी है. धनोवा के अनुसार आमने सामने की लड़ाई की स्थिति में जंगी जहाजो की यह संख्या बेहद कम है. हालाँकि हम रणनीति के साथ तैयार है. मोदी सरकार को सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान एयरफोर्स के इस्तेमाल की सलाह देने के सवाल पर उन्होंने कहा की आतंकी हमलो के खिलाफ वायुसेना का इस्तेमाल करना या नही करने का फैसला केंद्र सरकार को लेना है. हम इसके लिए हर समय तैयार है.