Thursday, June 17, 2021

 

 

 

हरियाणा में खट्टर सरकार ने कांग्रेस के अविश्वास प्रस्ताव पर जीता विश्‍वास मत

- Advertisement -
- Advertisement -

किसान आंदोलन के बीच हरियाणा में मनोहर लाल खट्टर की सरकार ने विपक्षी कांग्रेस पार्टी के तमाम प्रयासों के बावजूद विश्‍वास मत हा‍सिल कर लिया।

सदन में सरकार को 55 विधायकों का साथ सदन में मिला। वहीं 32 विधायकों ने कांग्रेस के अविश्वास प्रस्ताव के समर्थन में मत किया। दूसरे शब्‍दों में कहें तो बीजेपी-जेजेपी गठबंधन सरकार को 55 विधायकों का समर्थन हासिल हुआ। साथ ही 5 निर्दलीय और हलोपा के गोपाल कांडा ने भी सरकार का समर्थन किया।

इस दौरान मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि वह अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए कांग्रेस के अहसानमंद हैं। मुझे अपनी छह साल की सरकार का लेखा-जोखा रखने का मौका मिला। सत्ता को लेकर कांग्रेस की मृगतृष्णा। इसमें पानी नहीं रेत ही मिलेगा। सीएम ने कहा विपक्ष का विश्वास तो कभी नहीं मिलेगा, हमें तो जनता का विश्वास जीतना है।

आप एक लोकतांत्रिक रिकॉर्ड बनाइये और हर छह महीने में अविश्वास प्रस्ताव लेकर आइए। इस बार तो आपने मान लिया है कि सरकार के पास बहुमत है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की अविश्वास वाली शैली उसे कोई लाभ नहीं देने वाली। कांग्रेस को हर बार अविश्वास होता है, चाहे वो सरकार हो या फिर सर्जिकल स्ट्राइक।

प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस की ओर से बुधवार को भाजपा-जजपा सरकार के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव पेश किया गया था।  प्रश्नकाल समाप्त होने के बाद अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्‍ता ने अविश्वास प्रस्ताव के नोटिस को स्वीकार किया था। पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व वाले हरियाणा मंत्रिमंडल के खिलाफ यह अविश्वास प्रस्ताव पेश किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles