jan

अल्लाह ने मेरे बेटे को जल्दी बुला लिया. यही उसका नसीब था। दूसरा जन्म भी उसे वापस नहीं ला पायेगा। यह बोलकर रमजान के महीने में एक मुस्लिम महिला ने अपने बेटे के कातिल को भी माफ़ कर दिया।

आयशा बीवी ने अपने बेटे आसिफ के हत्यारे मुहर्रम अली को उसके परिजनों द्वारा माफ़ी का अनुरोध करने पर माफ़ कर दिया। मुहर्रम और आसिफ दोनों अच्छे दोस्त थे. दोनों साथ ही सऊदी अरब के अल-हसा में एक पेट्रोल पंप पर काम करते थे.

सुपरवाइजर के पद पर तैनात आसिफ और मुहर्रम साथ ही एक कमरे में रहते थे. लेकिन एक रात अली ने गला काटकर आसिफ की हत्या कर दी। जिसके बाद अली को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया. पिछले साल सऊदी अरब की अदालत ने अली को मौत की सजा सुनाई।

ऐसे में अब आसिफ की अम्मी आयशा बीवी के माफीनामे को सऊदी अरब के दम्मम में अदालत में पेश किया जाएगा। मुमकिन है कि माफ़ीनामें के बाद उसकी सज़ा ए मौत माफ़ हो जाए.

केएमसीसी के पूर्व सचिव कुनहालसन कुट्टी ने बताया कुछ समय बाद अली मानसिक रूप से बीमार हो गया। उसकी मानसिक स्थिति को देखते हुए सऊदी पुलिस ने केएमसीसी से अली की मदद करने की बात कही थी।

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?