नई दिल्ली पंजाब और गोवा में करारी हार मिलने से निराश आम आदमी पार्टी ने एमसीडी इलेक्शन में बैलेट पेपर से चुनाव कराने का फैसला किया है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने मुख्य सचिव को निर्देश दिया है की वो इसके लिए सभी औपचारिकता पूरी करे. दरअसल यह मांग कांग्रेस पार्टी के अलावा आम आदमी पार्टी ने भी की थी. केजरीवाल में निर्णय के बाद उपराज्यपाल अनिल बीजल की तरफ सबकी निगाहें लगी हुई है.

मंगलवार सुबह कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन ने केजरीवाल से ट्वीट कर आग्रह किया था की वो एमसीडी इलेक्शन में ईवीएम् मशीन की जगह बैलेट पेपर का इस्तेमाल करे. इसके बाद आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने कहा था की चूँकि बाकी पार्टिया भी इसी तरह की मांग कर रही है और उत्तर प्रदेश के नगर निकाय और नगर पंचायत के इलेक्शन बैलेट पेपर से होते है तो दिल्ली के एमसीडी चुनाव भी बैलेट से कराये जा सकते है.

कांग्रेस और आम आदमी पार्टी की मांग पर केजरीवाल ने अपने मुख्य सचिव को निर्देश जारी कर कहा की चूँकि राजनीतिक दलों की मांग है की नगर निगम के चुनाव ईवीएम् से कराने की बाजार बैलेट पेपर से कराये जाए इसलिए आज शाम तक इसके लिए जो भी औपचारिकताए है उनको पूरा किया जाए और निगम के चुनाव बैलेट पेपर से कराने के इंतजाम किये जाए.

मालूम हो की उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में बीजेपी की बम्पर जीत के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती ने आरोप लगाया था की बीजेपी ने ईवीएम् मशीन में छेड़छाड़ कर चुनाव जीता है. मायावती ने सबूत के तौर पर तर्क दिया था की मुस्लिम बहुल इलाको में भी बीजेपी को वोट मिला है जो किसी के भी गले नही उतर सकता. इसलिए मैं चुनाव आयोग से मांग करती हूँ की उत्तर प्रदेश के चुनाव परिणाम रद्द कर बैलेट पेपर से दोबारा चुनाव कराये जाये.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?