kathua culprits minister lal singh.jpg.image.784.410

जम्‍मू-कश्‍मीर के कठुआ में आठ साल की बच्‍ची के साथ मंदिर में सामूहिक बलात्कार और हत्या के मामले में जिला एवं सैशन कोर्ट में चल रही सुनवाई के दौरान मुख्य गवाह की गवाही पूरी कर ली गई।

इस दौरान कोर्ट ने मुख्य आरोपी ने मेरठ मे होने से सबंधित होने का जो दावा किया है उसके सबंध में बचाव पक्ष की ओर से सी.सी.टी.वी. फुटेज व दस्तावेजों का रिकार्ड प्रिजर्व करने की याचिका कोर्ट में मंजूर कर ली है।

अदालत ने अकांसा कॉलेज, मीरपुर (मुजफ्फरनगर) के साथ कुंद जैन कॉलेज, खतौली (मुजफ्फरनगर), बैंक ऑफ इंडिया, कार्पोरेशन बैंक को हिदायतें दी हैं कि जब तक मामला विचाराधीन है, उक्त आरोपी संबंधी रिकार्ड प्रीजर्व रखा जाए।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

kathua

वहीं दूसरी और पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने बीजेपी पर भड़कते हुए कहा कि आज भी अगर ये वाकया याद आता है तो मेरे रोंगटे खड़े हो जाते हैं। मैंने इस पूरे विवाद पर सबसे कम बोला क्योंकि मेरी भी दो बच्चियां है। हमारे मुल्क का झंडा, इतना सम्मानित झंडा, जिसको हम सलाम करते हैं और जिनपर रेप का आरोप था उनके समर्थन में उसे लेकर चले गए।

इस पूरे केस की जांच पर उठ रहे सावलों पर महबूबा ने कहा कि, “ये तो कोर्ट तय करेगा, लेकिन जिस तरह से क्राइम ब्रान्च ने इस केस की जांच की वो बेहद अच्छे तरह से की।” इसके बाद क्राइम ब्रांच में शामिल अधिकारियों पर आतंक समर्थक होने के लग रहे आरोपों पर महबूबा ने कहा कि,”एक तो एसएसपी जाला है। जो कश्मीरी पंडित है। आपको लगता है कि वो आतंकियों का समर्थक हो सकता है।’

साथ ही इस केस की सीबीआई जांच की मांग पर महबूबा ने कहा कि जो पीड़ित परिवार है वो तय करेंगे की वो किस जांच से संतुष्ट है। महबूबा मुफ्ती ने इस केस का हिन्दू मुस्लिम भाईचारा बिगाड़ने के लिए इस्तेमाल करने का आरोप लगाया।