जम्‍मू-कश्‍मीर के कठुआ में आठ साल की बच्‍ची के साथ मंदिर में बलात्कार और सामूहिक हत्या के मामले में अब नया मोड़ आ गया है. साहिल शर्मा सहित तीन गवाहों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर पुलिस पर बयान बदलने के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया.

याचिका में तीनों ने सुप्रीम कोर्ट से मांग की है कि केस की सुनवाई की वीडियो रिकॉर्डिंग करवाई जाए. साथ ही उन्हें केंद्र सरकार केंद्रीय सुरक्षा बल की सुरक्षा मुहैया कराई जाए. सुप्रीम कोर्ट आरोपियों की इस याचिका पर बुधवार को सुनवाई करेगा.

ये तीनों गवाह आरोपी विशाल के साथ पढ़ने वाले है. तीनों याचिकाकर्ताओं ने राज्य सरकार से 50 लाख रुपये का मुआवजा देने की भी मांग की. याचिका में ये भी कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट जम्मू कश्मीर क्राइम ब्रांच को आदेश दे कि वो उन्हें किसी तरह से नुकसान न पहुंचाए.

kathua asifa rape protest

बता दें कि अल्प्संखयक समुदाय की 8 साल की मासूम बच्ची को 10 जनवरी को अगवा कर कथित तौर पर एक मंदिर में बंधक बना कर रख उसे 3 दिन तक एक पुलिसकर्मी सहित 8 लोगों ने बलात्कार किया.

इस दौरान उसे भांग और नशीली दवाओं का ओवरडोज दिया गया. आखिर में 13 जनवरी को गला घोंटकर हत्या कर दी गई और 16 जनवरी को पीड़िता का शव को जंगल में  फेंक दिया गया.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?