rahul

rahul

26 जनवरी को तिरंगा यात्रा के नाम पर उत्तरप्रदेश के कासगंज में मचे बवाल में 22 साल के अभिषेक (चंदन) गुप्ता और राहुल उपाध्याय नाम के शख्स की मौत की खबरें सामने आई है. लेकिन अब राहुल उपाध्याय सामने आकर खुद के जीवित होने का प्रमाण दिया.

24 वर्षीय राहुल उपाध्याय ने सोशल मीडिया पर फ़ैल रही अपनी मौत की झूठी खबर को लेकर कहा कि कुछ लोगो ने उनकी मौत की झूठी खबर को फैलाकर उनका दंगा भड़काने के लिए इस्तेमाल किया. राहुल ने मीडिया को बताया, ‘शनिवार को मुझे फोन आया और मुझसे पूछा गया कि मैं जिंदा हूं या मेरी मौत हो गई. पहले मुझे काफी हैरानी हुई और मुझे लगा कि यह कोई मजाक होगा, लेकिन बाद में एक अन्य फोन कॉल आया, उसके बाद में और भी कई कॉल्स आए, सबने यही सवाल पूछा, तब मुझे समझ में आया कि कुछ तो गड़बड़ है.’

राहुल ने बताया, ‘मुझे समझ में आ गया था कि कुछ लोग दंगा भड़काने के लिए मेरा इस्तेमाल कर रहे थे. कहा जा रहा था कि हिंदुओं को मारा जा रहा है. मैं तुरंत ही पुलिस स्टेशन गया और सारी बातें बताई.’  इस घटना के सबंध में अलीगढ़ के आईजी संजीव गुप्ता ने राहुल को मीडिया से जुड़े रहने को कहा है.

आईजी संजीव गुप्ता ने कहा, ‘सोशल मीडिया पर जो अफवाह फैल रही है वह सही नहीं है, राहुल उपाध्याय जिंदा है.’ उन्होंने कहा, ‘हम लोग भी काफी हैरान थे. जहां हिंसा हुई वहां इस नाम का कोई भी व्यक्ति नहीं रहता था. कुछ लोग अफवाह फैला कर दंगा भड़काने की कोशिश कर रहे थे.’

ध्यान रहे पुलिस ने दंगा भड़काने के आरोप में अभी तक 82 लोगों को हिरासत में ले लिया है और 31 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?