अहमदाबाद । फ़िल्म ‘पद्मावती’ के विरोध में प्रदर्शन कर सुर्ख़ियो में आयी करनी सेना ने अब भाजपा सांसद और अभिनेता परेश रावल के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया है। करनी सेना ने परेश के एक बयान पर कड़ी आपत्ति जताते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को पत्र लिखा है। इस पत्र के ज़रिए करनी सेना ने माँग की है की भाजपा परेश रावल के ख़िलाफ़ मुकदमा दर्ज कराए और उनको पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया जाए।

दरअसल परेश रावल ने राजकोट में एक सभा के दौरान देश के राजा-रजवाड़ों पर निशाना साधा था। उन्होंने सरदार पटेल की तारीफ़ करते हुए कहा की उन्होंने देश को एक किया था। ये राजा-रजवाड़े, जो बंदर थे, उनको सही किया था, सीधा किया था। उनकी तारीफ़ जेआरडी टाटा ने भी की थी। उन्होंने कहा था कि अगर सरदार पटेल देश के प्रधानमंत्री होते तो आज देश नई ऊँचाइयो को छू रहा होता।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस तरह राजा-रजवाड़ों को बंदर बताने के बाद राजकोट का स्थानीय क्षत्रिय समुदाय परेश रावल के विरोध में उतर आया। उन्होंने परेश रावल का पुतला जलाने का भी एलान किया। इसके अलावा सोशल मीडिया पर भी उनके बयान की ख़ूब आलोचना हुई। इसके बाद करनी सेना ने भी भाजपा को चेतावनी भरे लहजे में कहा की अगर परेश रावल के ख़िलाफ़ कार्यवाही नही की गयी तो वो राजपूत समाज भाजपा के उम्मीदवारो का विरोध करेगा।

इसके अलावा उन्होंने परेश रावल से माफ़ी की माँग करते हुए उनके ख़िलाफ़ मुकदमा दर्ज कराने की भी माँग की। विरोध बढ़ता देख परेश रावल ने माफ़ी माँगते हुए सफ़ाई दी की उनका इशारा हैदराबाद के निज़ाम की और था। मेरे इस बयान से राजपूत समाज की भावनायें आहत हुई है इसलिए मैं अपने बयान के लिया माफ़ी माँगता हूँ। राजपुत इस देश की शान और गौरव रहे है। मैं उनके लिए ऐसे शब्दों का कभी इस्तेमाल नही करूँगा।

Loading...