Sunday, May 29, 2022

करणी सेना या गुंडों की फ़ौज – नेताओं पर हत्या, बलात्कार जैसे संगीन मामले दर्ज

- Advertisement -

655280 padmavati protest

संजय लीला भंसाली निर्देशित फिल्म ‘पद्मावत’ उर्फ़ ‘पद्मावती’ को लेकर सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की अवहेलना करते हुए करणी सेना ने देश भर में बवाल मचा रखा है. राजपूतों की आन-बान-शान को लेकर सड़कों पर उतरी करणी सेना कोई सेना न होकर बल्कि गुंडों की फ़ौज है.

न्यूज़ 18 के अनुसार, करणी सेना के तीन बड़े नेता हिस्ट्रीशीटर है. ये तीनों नेता राजस्थान से हैं. ये तीनों नेता सुखदेव सिंह गोगामेड़ी, महिपाल सिंह मकराना और अजीत सिंह मामडोली है. इनमे से दो नेताओ पर महिलाओं के खिलाफ अत्याचार का मुकदमा चल रहा है. इसके अलावा इनके खिलाफ हत्या और हत्या की कोशिश के मुकदमे चल रहे हैं.

सुखदेव सिंह गोगामेड़ी, (राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना,प्रमुख) इनके खिलाफ 21 केस दर्ज हैं. इसमें से 7 गंभीर आपराधिक मामले हैं. 2003 में हत्या के मामले में इन्हें दोषी ठहराया जा चूका है . इसके अलावा 2013 में आर्म्स एक्ट में इन्हें दोषी पाया गया. इतना ही नहीं इनके खिलाफ 2016 से यौन उत्पीड़न का भी केस चल रहा है.

महिपाल सिंह मकराना  (राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना,प्रमुख) इनके खिलाफ साल 2017 में हत्या का प्रयास और दंगा भड़काने का केस दर्ज हुआ था.इन पर IPC के तहत कई मुकदमे दर्ज हैं. मसलन 147(दंगा भड़काना), 148 ( दंगा, खतरनाक हथियार का इस्तेमाल), 307(हत्या का प्रयास), 332(सरकारी अधिकारी को चोट पहुंचाना), 452 ( घर हड़पने के लिए हमला), 379 (चोरी) इसके अलवा इन पर PDPP एक्ट के तहत तीन और केस चल रहे हैं. साल 2017 इनके खिलाफ यौन उत्पीड़न का मामला दर्ज हुआ था. इसके अलावा अपहरण और जबरदस्ती शादी करने का केस भी दर्ज हुआ था.

अजीत सिंह मामडोली (राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना,महासचिव)  साल 2010 में इन्हें IPC की धारा 188, 147(दंगा), 148 (दंगा, खतरनाक हथियार का इस्तेमाल), 323 (जानबूझ कर नुकसान) साल 2011 में इन पर दंगा फैलाने का केस दर्ज हुआ था.

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles