How Kanhaiya fade out the PM’s speech

देशद्रोह के आरोप में जेल में बंद जेएनयू छात्र संघ के नेता कन्हैया कुमार ज़मानत मिलने के बाद गुरुवार को जेल से निकलकर जेएनयू पहुंचे जहां उन्होंने छात्रों के साथ जेल के अपने अनुभव को साझा किया और आज़ादी के नारे लगाए.

उन्होंने राष्ट्रीय सवयंसेवक संघ (आरएसएस), अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) और प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा और कहा कि वे भारत से नहीं भारत को लूटने वालों से आज़ादी चाहते हैं.

उनके भाषण पर सोशल मीडिया में लोग तरह-तरह की प्रतिक्रिया दे रहे हैं. ट्विटर पर #KanhaiyaKumar हैशटैग ट्रेंड कर रहा है जहां कई लोग उन्हें उभरते हुए नेता के रूप में देख रहे हैं तो कई तल्ख़ टिप्पणी भी कर रहे हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

कन्हैया कुमार

पीआर संजय ने लिखा है, “सीबीएसई ने स्कूलों को कहा है कि वे बच्चों को प्रधानमंत्री मोदी का ऐप डाउनलोड करने के लिए कहें. जेएनयू ने प्रधानमंत्री मोदी से कहा है कि वे मंत्रियों को कन्हैया कुमार की स्पीच डाउनलोड करने के लिए कहें.”

कन्हैया कुमार

देबरती ने लिखा है, “कन्हैया कुमार एक छोटे से छात्र नेता जेल से ज़मानत पर छूटे और टेलीवीज़न पर प्राइमटाइम में आ गए. मोदी को ऐसा करने के लिए ‘वर्ष 2002’ करना पड़ गया था. क्या नेता हैं!”

कन्हैया कुमार

अभय दुबे का कहना है, “एक ही तो कला थी भाषण देने की, आज एक आम आदमी ने उसमें भी हरा दिया. सत्यमेव जयते.”

कन्हैया कुमार

संजय झा का कहना है, “कन्हैया कुमार अब उस महान नेता चे ग्वारा की तरह हैं. एक युवा व्यक्ति जो उस भारत का संकेत है जो झुकने के लिए तैयार नहीं और अपने पर भरोसा करता है”

वहीं कई लोगों का मानना है कि मोदी सरकार ने इस मामले को अधिक तूल दे दिया.

कन्हैया कुमार

विनय लिखते हैं, “मोदी काका और उनकी सरकार ने ‘अपने पैर पे ख़ुद कुल्हाड़ी मारना’ मुहावरे का मतलब ढ़ूंढ लिया है. उन्होंने कन्हैया कुमार को एक स्टार बना दिया है.”

कन्हैया कुमार

संतोष कुमार का कहना है, “भाजपा राजनीतिक तौर पर इतनी अपरिपक्व है कि उन्होंने आप ही अपने दुश्मन बना लिए. भाजपा के लिए यह कितने शर्म की बात है.”

कन्हैया कुमार

हार्दिक राजगोर ने कन्हैया कुमार मामले में मीडिया पर निशाना साधा है और लिखा है, “मीडिया ने कन्हैया को कोर्ट में पेश होने से पहले पहले ही चरमपंथी करार दे दिया. अब बस एक स्पीच के बाद वे एक क्रांतिकारी नेता बन गए हैं. भारत बेवकूफ़ न बनो.”

कन्हैया कुमार

श्वेता सिंह कहती हैं कि कन्हैया बड़ी आसानी से हीरो बन गए. वे लिखती हैं, “एक भाषण से हीरो बन सकते थे. पागल थे सरहद पर खून बहा दिया.”

कन्हैया कुमार Image copyrightOther

गौरव तोड़नकर का कहना है, “कन्हैया कुमार, साधारण लोग आपके रुख का विरोध कर रहे हैं. अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर आप देश के दुश्मनों को सम्मान नहीं दे सकते.” (BBC)

Loading...