Saturday, September 25, 2021

 

 

 

कमलेश तिवारी केस में गुजरात-राजस्थान बॉर्डर से दो आरोपियों की गिरफ्तारी

- Advertisement -
- Advertisement -

हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की ह*त्या के मामले में में गुजरात एटीएस ने दो आरोपियों मोइनुद्दीन और अशफाक को  गुजरात-राजस्थान बॉर्डर से गिरफ्तार करने का दावा किया है।

गुजरात एटीएस के डीआईजी हिमांशु शुक्ला की अगुवाई में पुलिस अधीक्षक बीपी रोजिया, एसीपी बीएस चावड़ा और अन्य पुलिस पदाधिकारियों की टीम ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया। डीआईजी ने बताया कि दोनों आरोपियों ने अपना जुर्म कबूल लिया है।

गुजरात एटीएस के मुताबिक 34 वर्षीय अशफाक सूरत में ग्रीन व्यू अपार्टमेंट और 27 वर्षीय मोइनुद्दीन सूरत के ही उमड़वाड़ा की लो कास्ट कालोनी के रहने वाले हैं। अशफाक एक निजी कम्पनी में मेडिकल रिप्रेजेन्टेटिव (एमआर) और मोइनुद्दीन फूड डिलीवरी ब्वॉय था। दोनों लोग सूरत से 17 अक्तूबर की रात लखनऊ पहुंचे थे। 18 अक्तूबर को हत्या करने के बाद से ही ये फरार चल रहे थे।

इस बीच कमलेश तिवारी की अटॉप्सी रिपोर्ट से पता चला है कि वारदात के दौरान कम से कम 15 बार तिवारी पर चाकू से वार किया गया था। इससे तिवारी के सीने में तीन से चार सेंटीमीटर का सुराख हो गया था। साथ ही दो जगह चाकू से रेते जाने के निशान मिले हैं। इनमें से एक निशान उनकी गर्दन को रेतने का है। इसके अलावा तिवारी के मुंह के पास चेहरे के बाईं तरफ बुलेट इंजरी मिली है।

आरोपियों की गिरफ्तारी पर कमलेश तिवारी की मां ने कहा कि गुजरात एटीएस ने बेहतरीन कार्य किया। उन्होंने आरोपियों की फांसी की सजा की मांग की। वहीं कलमेश तिवारी के बड़े बेटे सत्यम ने कहा कि इस मामले की जल्द से जल्द सुनवाई कर आरोपियों को फांसी की सजा दी जाए। इसके अलावा, कमलेश तिवारी की पत्नी ने कहा कि आरोपियों को जेल में रोटी न खिलाई जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles