चेन्नई | दक्षिण और बॉलीवुड फिल्मो के दिग्गज अभिनेता कमल हसन आजकल नई राजनीतिक पारी शुरू करने की तैयारी कर रहे है. कमल हसन के इस कदम से दक्षिण की राजनीती में एक नया विकल्प खुलने के आसार नजर आ रहे है. इन संभावनाओ के बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविन्द केजरीवाल भी उनसे मुलाकात कर चुके है. हालाँकि अभी तक कमल हसन ने अपने पत्ते नही खोले है.

इसी बीच कमल हसन ने एक लेख के जरिये नोट बंदी को लेकर प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा है. उन्होंने मोदी से अपनी गलती मानने का आग्रह करते हुए कहा की अगर वो ऐसा करते है तो मैं उन्हें सलाम करूँगा. चौकाने वाली बात यह है की नोट बंदी के समय कमल हसन मोदी की तारीफ कर चुके है. उस समय उन्होंने मोदी को सलाम करते हुए कहा था की इस कदम की राजनितिक विचारधारा से ऊपर उठाकर तारीफ होनी चाहिए.

लेकिन अचानक से बदले समीकरण के बीच उन्होंने मोदी पर निशाना साधकर यह जरुर संकेत दे दिए है की वो बीजेपी के साथ अपनी राजनितिक पारी की शुरुआत नही करेंगे. एक तमिल मैगज़ीन में छपे उनके लेख में कहा गया है की अपनी गलती मानना और उसे सुधारना अच्छे राजनीतिज्ञ की पहचान है. इसलिए अगर मोदी जी अपनी गलती मान लेते है तो मैं उन्हें सलाम करूँगा.

प्रत्यक्ष रूप से कमल हसन ने पहली बार खुलकर मोदी सरकार की किसी निति की आलोचना की है. करीब दो महीने पहले नई राजनितिक पार्टी बनाने की घोषणा करने वाले कमल हसन आगे क्या कदम उठाएंगे यह तो भविष्य के गर्भ में छिपा है लेकिन इतना तय है की उनकी यह टिप्पणी गैर बीजेपी दलों को काफी राहत पहुँचाने वाली है. हालाँकि अरविन्द केजरीवाल के साथ हुई उनकी मुलाकात दक्षिण में आम आदमी पार्टी के लिए भी जमीन तलाशने का अच्छा विकल्प साबित हो सकता है.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें