Tuesday, August 3, 2021

 

 

 

काटजू का विवादित बयान – गाय को माता कहने वालों के दिमाग में गोबर भरा

- Advertisement -
- Advertisement -

अपने तीखे बयानों को लेकर पहचाने जाने वाले पूर्व जस्टिस और प्रेस काउंसिल ऑफ़ इंडिया (पीसीआई) के चेयरमैन रहे मार्कंडेय काटजू ने गाय को लेकर विवादित बयान दिया है। काटजू ने देहरादून में एक कार्यक्रम के दौरान राम को भगवान को मानने से इंकार कर दिया। साथ ही गाय को माता कहने पर आपत्ति जताते हुए कहा कि राम भगवान नहीं बल्कि एक साधारण आदमी थे। वहीं गाय को माता कहे जाने पर आपत्ति जताते हुए काटजू ने कहा कि गाय भी घोड़े और कुत्ते की तरह एक जानवर है। ऐसे में जो लोग गाय को माता कहते हैं, उनके दिमाग में गोबर भरा है।”

काटजू ने कहा कि ये सब आगामी लोकसभा चुनाव में वोट पाने के लिए पॉलिटिक्स किया जा रहा है। राम मंदिर कोई मुद्दा नहीं है। असल में लोगों का सिर्फ ध्यान भटकाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि लोग चाहे भूखे मर जाए, बेरोजगार रहे उसे कोई मुद्दा नहीं मान रहा है और राम मंदिर को मुद्दा बनाए बैठे हैं।

‘संविधान एवं भारत का भविष्य’ विषय पर आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में शामिल हुए जस्टिस काटजू ने कहा कि देश का लोकतंत्र केवल जाति-धर्म के आधार पर सरकार बना रहा है। ऐसे में मैंने आज तक केवल एक बार वोट डाला है। लेकिन, अब कभी वोट नहीं दूंगा। उन्होंने सभी राजनीतिक पार्टियों के नेताओं को ‘ठग्स ऑफ हिंदुस्तान’ करार दिया। बोले, जब हमारे वोट की अहमियत ही नहीं तो वोट क्यों दें। प्रधानमंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक और अधिकारी, जनता के नौकर हैं। उन्होंने लोकसभा चुनावों के परिणामों की तुलना मुगल शासक औरंगजेब के बाद की समयावधि से करते हुए कहा कि इस बार किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिलेगा।

cow

गठबंधन की सरकार में यह नेता पदों के लिए ऐसे ही लड़ेंगे, जैसे औरंगजेब के बाद देश में हालात पैदा हुए थे। उन्होंने यूनिफार्म सिविल कोड का पुरजोर समर्थन किया। शरिया कानून और बुर्का प्रथा को पिछडे़पन का द्योतक बताया। उन्होंने कहा कि जेएनयू में आजादी का नारा लगाना कोई आपराधिक कृत्य नहीं हैं।

आजादी के 71 साल बाद भी देश में 41 प्रतिशत बच्चे कुपोषण का शिकार हैं। नोटबंदी की वजह से दो करोड़ रोजगार छिन गए हैं। इस अवसर पर उत्तरांचल विवि के चांसलर जितेंद्र जोशी, वाइस चांसलर डॉ. एनके जोशी, लॉ कॉलेज के प्राचार्य डॉ. राजेश बहुगुणा, डॉ. अभिषेक जोशी, कुलसचिव अजय सिंह, डॉ. मुकेश बोरा, डॉ. पूनम रावत, कुमार आशुतोष आदि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles