पुलवामा में सेना की आम नागरिकों पर गोलीबारी, जस्टिस काटजू ने बताया जलियांवाला बाग नरसं’हार

7:18 pm Published by:-Hindi News

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई के दौरान सेना के हाथों आम नागरिकों की मौत के मामले की तुलना जलियांवाला बाग नरसंहार से की है। इतना ही नहीं उन्होने सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत की तुलना जनरल डायर बताया।

काटजू ने ट्वीट किया ,”भारतीय सेना को शाबाशी देनी चाहिए। जिस तरह से जनरल डायर ने जलियांवाला बाग और लेफ्टिनेंट कैली ने वियतनाम के माई लाई में किया, वैसे कश्मीर में भारतीय सेना ने लोगों को मारना शुरू कर दिया है। सभी भारतीय सैन्य अफसरों और सैनिकों को भारत रत्न से नवाजा जाना चाहिए।”

वहीं, एक अन्य ट्वीट में जस्टिस काटजू ने कहा कि सेना प्रमुख जनरल रावत को बधाई हो, जिनके जवानों ने जलियांवाला और माई लाई नरसंहार की तर्ज पर कश्मीर के पुलवामा 7 नागरिकों को मार डाला। आप कितने बहादुर हैं भारतीय सेना के प्रमुख!गौर करने वाली बात यह है कि जिस मामले की बात काटजू कर रहे हैं, वह देश के लिए बेहद ही संवेदनशील मुद्दा रहा है। हालांकि, जस्टिस काटजू के इस बयान पर किसी की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

गौरतलब है कि शनिवार को पुलवामा जिले के खारपुरा सर्नू गांव में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ के दौरान स्थानीय नागरिकों को हटाने के लिए कथित तौर पर सुरक्षा बलों को गोलीबारी करनी पड़ी। जिसमें 7 नागरिक मारे गए। हालांकि, मुठभेड़ में भारतीय सेना ने 3 आतंकियों को ढेर कर दिया और एक सेना का जवान शहीद हो गया था।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें