Thursday, October 21, 2021

 

 

 

हम नहीं चाहते है कि 20 साल बाद हम पर अपने जमीर बेचने का लगे आरोप: जस्टिस चेलामेश्वर

- Advertisement -
- Advertisement -

chema

देश के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा जजों ने प्रेस कांफ्रेंस कर चीफ जस्टिस ऑफ़ इंडिया पर सरेआम गंभीर आरोप लगाए हो.

जस्टिस चेलमेश्वर की अगुवाई में कुल 4 जजों ने प्रेस कांफ्रेंस कर सुप्रीम कोर्ट की न्यायपालिका की व्यवस्था पर ऊँगली उठाते हुए चीफ जस्टिस ऑफ़ इंडिया को कठघरे में ला खड़ा कर दिया. जस्टिस चेलामेश्वर ने कहा, ‘हम नहीं चाहते कि 20 साल बाद कोई कहे कि चारों सीनियर जजों ने अपना जमीर बेच दिया. इसलिए हम मीडिया से मुखातिब हुए.’

उन्होंने कहा, भारत समेत किसी भी देश में लोकतंत्र को बरकरार रखने के लिए यह जरूरी है कि सुप्रीम कोर्ट जैसी संस्था सही ढंग से काम करे.’ उन्होंने कहा कि हमने इस मुद्दे पर चीफ जस्टिस से बात की, लेकिन उन्होंने हमारी बात नहीं सुनी. जस्टिस चेलमेश्वर ने कहा कि हमने न्यायपालिका की अनियमितताओं पर बात की, इस मुद्दे को लेकर हमने चार महीने पहले देश जस्टिस को खत लिखा था.

जस्टिस चेलमेश्वर ने कहा कि अगर हमने देश के सामने ये बातें नहीं रखी और हम नहीं बोले तो लोकतंत्र खत्म हो जाएगा. उन्होंने कहा, चीफ जस्टिस पर देश को फैसला करना चाहिए, हम बस देश का कर्ज अदा कर रहे हैं.

23 जून 1953 को आंध्र प्रदेश के कृष्णा जिले में जन्मे जस्टिस जस्ती चेलामेश्वर केरल और गुवाहाटी हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रहे हैं. आपको बता दें कि जस्टिस चेलमेश्वर चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के बाद सीनियर मोस्ट जज हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles