JNU में छात्रा बोली बाबरी मस्जिद को गलत गिराया गया उसे फिर बनाया जाए

यूनिवर्सिटी प्रशासन के आदेशों के खिलाफ जाकर जेएनयू छात्र संघ ने पहले बाबरी विध्वंस की बरसी से 2 दिन पहले राम के नाम डॉक्यूमेंट्री को दिखाया। इसके बाद बरसी वाले दिन कुछ ऐसे बयान हुए जोकि तूल पकड़ सकते थे।

जेएनयू कैंपस में जेएनयूएसयू का कार्यक्रम जो कि 6 दिसंबर को हुआ था इस कार्यक्रम में बाबरी मस्जिद फिर से बनाने और इसके लिए ल’ड़ाई करने की बयानबाजी हुई।

आपको बता दें जेएनयू कैंपस में बाबरी मस्जिद विध्वंस की 29 वीं बरसी पर यह कार्यक्रम आयोजित हुआ और इस कार्यक्रम में छात्र हाथों में तख्तियां लिए 6 दिसंबर 1992 अयोध्या में बाबरी मस्जिद गिराए जाने की मुखालफत करते हुए नजर आए।

संप्रदायिकता मुर्दा’बाद लिखी तख्तियां भी नजर आई। इस कार्यक्रम का एक वीडियो भी सामने आया है जिसमें एक छात्रा अयोध्या में दोबारा से बाबरी मस्जिद बनाने की बात करती है। इस वीडियो में जेएनयूएसयू उपाध्यक्ष साकेत मून कहते हैं की, यह कहना पड़ेगा कि बाबरी मस्जिद को गिराया गया वह गलत था। इसके लिए इंसाफ होगा और फिर से बनाई जाए बाबरी मस्जिद।

विज्ञापन